कोरोना के बाद अब 'हंता वायरस' भी डरा रहा है जिसको लेकर चीन ने बड़ी बात कही है। दुनिया भर में 50 हजार से ज्यादा लोगों की जान ले चुके कोरोना वायरस के खौफ के बीच चीन में फैले हंता वायरस ने लोगों के बीच डर पैदा कर दिया है। इस वायरस के कारण चीन के युन्नान प्रांत में एक प्रवासी श्रमिक की जान भी जा चुकी है। हालांकि अपनी छवि सुधारने में जुटे चीन ने इस वायरस को लेकर सफाई दी है।
चीन के सरकारी मुखपत्र ग्लोबल टाइम्स में छपे एक लेख में चीन ने कहा है कि हंता वायरस अन्य बीमारियों की अपेक्षा कम घातक है और इसके प्रसार की संभावना बहुत कम है। दक्षिण चीन के गुआंगडोंग प्रांत के फोसान में संक्रमण विभाग के मुख्य डॉक्टर बाई होंग्लियन ने ग्लोबल टाइम्स को बताया कि हंतावायरस किसी अन्य बीमारी की अपेक्षा कम खतरनाक है।

डॉक्‍टर बाई ने कहा कि यह वायरस एक प्रकार के बैक्टीरिया के माध्यम से पैदा हुआ है जो मानव शरीर के श्वसन तंत्र को प्रभावित करता है। विशेषज्ञों का मानना है कि कोरोना वायरस की तरह से हंता वायरस उतना घातक नहीं है। यह चूहे या गिलहरी के संपर्क में इंसान के आने से फैलता है। सेंटर फॉर डिजिज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन के मुताबिक चूहों के घर के अंदर और बाहर करने से हंता वायरस के संक्रमण का खतरा रहता है।
सीडीसी ने बताया कि यहां तक कि अगर कोई स्‍वस्‍थ व्‍यक्ति भी है और वह हंता वायरस के संपर्क में आता है तो उसके संक्रमित होने का खतरा रहता है।' हंता वायरस एक व्‍यक्ति से दूसरे व्‍यक्ति में सामान्यत: नहीं जाता है लेकिन यदि कोई व्‍यक्ति चूहों के मल, पेशाब आदि को छूने के बाद अपनी आंख, नाक और मुंह को छूता है तो उसके हंता वायरस से संक्रमित होने का खतरा बढ़ जाता है।

इस वायरस से संक्रमित होने पर इंसान को बुखार, सिर दर्द, शरीर में दर्द, पेट में दर्द, उल्‍टी, डायरिया आदि हो जाता है। अगर इलाज में देरी होती है तो संक्रमित इंसान के फेफड़े में पानी भी भर जाता है, उसे सांस लेने में परेशानी होती है। हंता वायरस जानलेवा है। इससे संक्रमित व्‍यक्तियों के मरने का आंकड़ा 38 प्रतिशत है। चीन में हंता वायरस का यह मामला ऐसे समय पर आया है जब पूरी दुनिया वुहान से निकले कोरोना वायरस की महामारी से जूझ रही है।

Inside Story

पॉपुलर खबरें