पश्चिम बंगाल में सत्ता के लिए घमासान चल रहा है। अभी भवानीपुर विधानसभा में चुनाव होने वाले हैं। बता दें कि विधानसभा उपचुनाव के लिए भवानीपुर सीट से अपनी उम्मीदवार का ऐलान कर दिया है। सीएम ममता बनर्जी को हराने के लिए बीजेपी ने यहां से वकील प्रियंका टिबरेवाल को अपना प्रत्याशी बनाया है। प्रियंका पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी के सामने ताल ठोकेंगी।


इस सीट पर तगड़ा मुकाबला अब बीजेपी और टीएमसी के बीच ही है क्योंकि कांग्रेस ने यहां अपना उम्मीदवार उतारने से मना कर दिया है। ममता बनर्जी को विधानसभा चुनाव में बीजेपी के शुभेंदु अधिकारी ने नंदीग्राम सीट पर हरा दिया था जिसके बाद अब ममता बनर्जी अपनी पारंपरिक सीट भवानीपुर से उपचुनाव लड़ रही हैं। अगर ममता हार जाती है ममता से सीएम की कुर्सी छीन ली जाएगी।

कौन है प्रियंका

बंगाल में प्रियंका टिबरेवाल बीजेपी युवा मोर्चा की उपाध्यक्ष हैं। अब वह भवानीपुर सीट पर पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी को टक्कर देंगी। प्रियंका ने 2014 में बीजेपी जॉइन किया था और 6 साल बाद 2020 में इन्हें बंगाल में भारतीय जनता युवा मोर्चा का उपाध्यक्ष बनाया। बता दें कि प्रियंका बीजेपी से पहले भी विधानसभा की उम्मीदवार रह चुकी हैं।



प्रियंका टिबरेवाल पेशे से है वकील


प्रियंका टिबरेवाल पेशे से वकील भी हैं। बता दें कि वह सुप्रीम कोर्ट और कलकत्ता हाई कोर्ट में वकालत करती हैं। इनका जन्म 7 जुलाई 1981 को कोलकाता में हुआ था। इनकी स्कूली पढ़ाई कोलकाता से हुई थी जबकि ग्रैजुएशन इन्होंने दिल्ली यूनिवर्सिटी से किया। हालांकि लॉ की पढ़ाई के लिए ये वापस कोलकाता आ गईं और हाजरा कॉलेज से अपनी कानून की पढ़ाई पूरी की।

2015 में हार गई थीं चुनाव


प्रियंका टिबरेवाल पेशे से वकील तो है लेकिन यह राजनीति में भी अपना लक कई सालों से अपना रही है। इन्होंने हाल ही में संपन्न हुए पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव 2021 में एंटल्ली विधानसभा सीट से चुनाव लड़ा था, लेकिन उन्हें टीएमसी के स्वर्ण कमल साहा से हारना पड़ गया। प्रियंका ने 2015 में बीजेपी के टिकट पर म्युनिसिपल काउंसिल का भी चुनाव लड़ा था, लेकिन दुर्भाग्य से उन्हें यहां भी टीएमसी उम्मीदवार से हार का सामना करना पड़ा था।