अफगानिस्तान से अमेरिकी सेना की वापसी होने के साथ ही वहां फिर से तालिबान का आतंक बढ़ गया है। अब तालिबान ने क्रूरता की सारी हदें पार कर दीं हैं। तालिबान के आतंकियों ने एक लड़की की सिर्फ इसलिए हत्या कर दी, क्योंकि उसने टाइट कपड़े पहने थे और उसके साथ कोई पुरुष साथी नहीं था।

यह घटना उत्तरी बल्ख प्रांत के समर कांदियान के एक गांव की है, जिस पर पूरी तरह से तालिबानियों का कब्जा है। बल्ख के पुलिस प्रवक्ता आदिल आदिल शाह आदिल ने बताया कि लड़की का नाम नाजनीन था और उसकी उम्र 21 साल थी।

उन्होंने बताया कि लड़की अपने घर से बल्ख की राजधानी मजार-ए-शरीफ जा रही थी। वो अपने घर से निकलकर गाड़ी में बैठ ही रही थी कि तभी आतंकियों ने गोली मारकर उसकी हत्या कर दी। पुलिस ने बताया कि लड़की ने बुर्का पहना हुआ था। हालांकि, तालिबान ने इन आरोपों को खारिज कर दिया है।

अफगानिस्तान में जैसे-जैसे तालिबान का कब्जा बढ़ता जा रहा है, वैसे-वैसे लड़कियों और महिलाओं पर अत्याचार भी बढ़ते जा रहे हैं। तालिबान लड़कियों और महिलाओं का अपहरण कर रहा है और उसके आतंकी उनसे जबरन शादी कर रहे हैं।

एक रिपोर्ट में दावा किया गया कि तालिबान जैसे ही किसी नए इलाके या शहर पर कब्जा करता है, वैसे ही मस्जिदों से पुलिसकर्मियों और सरकारी कर्मचारियों की पत्नियों और विधवाओं को उन्हें सौंपने का ऐलान करवाता है।

तालिबान के बढ़ते ही परिवारों में डर है और वो अपने घर की महिलाओं और लड़कियों को काबुल की सुरक्षित जगह भेज रहे हैं, ताकि उन्हें आतंकियों से बचाया जा सके।

अफगानिस्तान के तखार और बदाखशान इलाके में महिलाओं से जबरन शादी करने के मामले सामने आए हैं। इसी तरह का मामला बाम्यान प्रांत में भी सामने आया था। हालांकि, बाम्यान से अफगानी फौज ने तालिबानियों को खदेड़ दिया है।