अफगानिस्तान के सुरक्षा बलों द्वारा देश भर में केवल 24 घंटों में किए गए कई हमलों में कम से कम 100 तालिबानी आतंकी मारे गए और लगभग 90 अन्य घायल हो गए। अधिकारियों ने शुक्रवार को इसकी पुष्टि की।

मीडिया ने स्थानीय सरकार के सूत्रों के हवाले से अपनी रिपोर्ट में कहा है कि हेरात प्रांत में, स्थानीय सार्वजनिक विद्रोह बलों द्वारा समर्थित सुरक्षा कर्मियों ने प्रांतीय राजधानी हेरात शहर और पड़ोसी जिलों गुजरा, कारुख और सेयावोशन पर आतंकी समूह के हमलों का जवाब दिया, जिसमें 52 तालिबान आतंकी मारे गए और 47 घायल हो गए। सूत्रों ने कहा कि अफगान वायु सेना के ए-29 युद्धक विमानों ने भी जमीनी बलों के समर्थन में कई हमले किए।

अफगान रक्षा मंत्रालय ने शुक्रवार को कहा कि इसके अलावा, हेरात के घोरियन जिले में किए गए हवाई हमलों में 13 तालिबान आतंकी मारे गए और 22 अन्य आतंकी मारे गए। बयान में यह भी कहा गया कि सुरक्षाबलों की छापेमार कार्रवाई के दौरान हथियारों और गोला-बारूद के साथ सात वाहन नष्ट हो गए। कंधार प्रांत में, जहारी जिले में तालिबान के एक समूह को युद्धक विमानों द्वारा निशाना बनाए जाने के बाद, 36 आतंकी मारे गए और 20 घायल हो गए।

वहीं अफगानिस्तान के विदेश मंत्रालय ने दावा किया है कि जांच से पता चला है कि पाकिस्तान में देश के राजदूत की बेटी का अपहरण किया गया और फिर उसे इस्लामाबाद में शारीरिक और मानसिक रूप से प्रताडि़त किया गया। मंत्रालय के अनुसार, मेडिकल रिपोर्ट और संबंधित सबूतों से संकेत मिलता है कि सिलसिला अलीखेल के साथ मारपीट की गई और फिर 17 जुलाई को उसे प्रताडि़त किया गया। पाकिस्तानी राजधानी में अपनी बेटी के अपहरण को लेकर राजदूत नजीब अलीखेल ने याचिका दायर की थी।