अफगानिस्तान (Afganistan) की दिन-प्रतिदिन खराब होती आर्थिक हालत से यहां आम लोगों की जिंदगी भयानक होती जा रही है। एक रिपोर्ट के अनुसार अफगानिस्तान के लोग दो वक्त की रोटी के लिए अपनी किडनी (selling kidney) तक बेच रहे हैं। अफगानिस्तान के कानून के मुताबिक यहां शरीर के अंगों का सौदा करना गैर-कानूनी है, लेकिन इन परिवारों का कहना है कि जिंदा रहने के लिए उनके पास और कोई दूसरा रास्ता नहीं है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि इंजिल जिले (Afganistan Enjil District) के निवासियों ने भीषण गरीबी के बीच जीवित रहने के लिए थोड़े पैसे के लिए अपनी किडनी काला बाजार में बेच दी है। निवासियों में से एक ने कहा कि हमारे बच्चों के खाने के लिए हम अपनी किडनी बेचते हैं। किडनी बेचने वालों में बच्चे और महिलाएं भी शामिल हैं। इतना ही नहीं यहां लोग अपनी बच्चियों को भी बेच रहे हैं, ताकि खाने के लिए कुछ पैसों का जुगाड़ हो सके। 

एक अन्य निवासी ने बताया कि हम खुश हैं, सुरक्षा की स्थिति अच्छी है, लेकिन देश में कीमतें थोड़ी अधिक हैं। हेरात के कुछ हिस्सों में गरीबी के कारण किडनी की बिक्री (kidney sales) पिछले साल भी सुर्खियों में रही थी, लेकिन अब एक भयावह मानवीय संकट के रूप में अफगानिस्तान में, दुनिया के नेता और अधिकारी इस मामले को गंभीरता से ले रहे हैं। अफगानिस्तान में बेरोजगारी, गरीबी और भुखमरी खतरनाक स्तर पर पहुंच गई है। आर्थिक विशेषज्ञों का कहना है कि अफगानिस्तान पर लगे प्रतिबंध को हटाने और वर्ल्ड बैंक द्वारा देश की करोड़ों की संपत्ति जारी करने के बाद यहां लोगों की स्थिति में काफी सुधार आ सकता है।