एयर इंडिया एक्सप्रेस लिमिटेड के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक राजीव बंसल और मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) श्याम सुंदर अभियान प्रमुख के साथ शनिवार को कालीकट पहुंचे तथा इसके बाद घटनास्थल का दौरा किया। एयर इंडिया की ओर से जारी बुलेटिन के मुताबिक कंपनी की जांच और बचाव टीमें भी घटनास्थल पर पहुंच गयी हैं। ये टीमें घायलों के साथ-साथ उनके और मृतकों के परिजनों से भी मुलाकात करेंगी।

दिल्ली और मुंबई से दो विशेष राहत विमान हादसाग्रस्त विमान के यात्रियों तथा उनके परिजनों को सहायता के लिए यहां भेजे गये हैं। आपातकालीन प्रतिक्रिया निदेशक कालीकट, मुंबई, दिल्ली के साथ-साथ दुबई में सभी एजेंसियों के साथ समन्वय कर रहे हैं। बुलेटिन के मुताबिक एएआईबी, डीजीसीए एवं विमान सुरक्षा विभाग की हादसे की जांच के लिए मौके पर पहुंच चुकी हैं।

बुलेटिन में कहा गया है कि इस हादसे में दोनों पायलटों समेत 17 लोगों की मौत हो गयी है। चालक दल के चार अन्य सदस्य हालांकि सुरक्षित हैं। इस बीच दुर्घटनाग्रस्त विमान का कॉकपिट वाइस रिकॉर्डर (ब्लैक बॉक्स) बरामद कर लिया गया है। इस रिकॉर्डर के जरिये अब यह पता चल सकेगा कि शुक्रवार रात हुए हादसे के ठीक पहले पॉयलट के साथ क्या बात हुयी थी। 

इस बीच राज्य के मुख्यमंत्री पिनारायी विजयन ने भी विमान हादसे में मारे गये लोगों के परिजनों को 10-10 लाख रुपये सहायता राशि देने की घोषणा की है। श्री विजयन ने शुक्रवार देर रात चले बचाव एवं राहत अभियान में भाग लेने वाले स्वयंसेवकों एवं स्थानीय लोगों के प्रति आभार व्यक्त करते हुए कहा कि विमान हादसे में घायलों को सभी आवश्यक चिकित्सा सुविधा मुहैय्या करायी जाएगी वह भी पूरी तरह निशुल्क। इससे पूर्व मुख्यमंत्री ने राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान तथा कुछ मंत्रियों के साथ घटनास्थल का दौरा किया।