लखनऊ। उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव (Uttar Pradesh Assembly Elections 2022) दिलचस्प होते जा रहा है। राज्य में राजनेताओं के दल बदल का दौर लगातार जारी है। रविवार को बहुजन समाज पार्टी (Bahujan samaj party), समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) को बड़ा झटका लगा है। सपा, बसपा समेत अन्य दलों से आए 21 लोगों ने बीजेपी (BJP) का दामन थाम लिया है। इसमें कई दिग्गज नेता भी हैं। इसके साथ ही मौलाना तौकीर रजा की बहू निदा खान (Nida Khan) ने भी बीजेपी की सदस्यता ली है।

मुस्लिम समुदाय (Muslim community) में तीन तलाक (triple talaq) प्रथा को खत्म करने वाले कानून की पैरोकार और सामाजिक कार्यकर्ता निदा खान ने रविवार को भारतीय जनता पार्टी (BJP) की सदस्यता ग्रहण कर ली। इस दौरान सपा सरकार में मंत्री रहे शिवचरण प्रजापति भी भाजपा में शामिल हुए। भाजपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष एवं ज्वाइनिंग कमेटी के अध्यक्ष डॉ. लक्ष्मीकान्त वाजपेयी ने यहां स्थित पार्टी कार्यालय में खान और अन्य दलों से आये नेताओं को पार्टी में शामिल कराया। 

खान, सियासी संगठन इत्तिहाद ए मिल्लत कांउसिल के अध्यक्ष तौकीर रजा खान के भतीजे की तलाकशुदा पत्नी भी हैं। वह मुस्लिम समुदाय में तीन तलाक कानून के पक्ष में मुहिम चलाने के बाद चर्चा में आयी थीं। इस दौरान डॉ. वाजपेयी ने पूर्व मंत्री शिवचरण प्रजापति (Former Minister Shivcharan Prajapati) के अलावा बसपा (BSP) के वरिष्ठ नेता और पूर्व मुख्यमंत्री के विशेष कार्याधिकारी रहे गंगाराम अंबेडकर (Gangaram Ambedkar) और सपा की लोहिया वाहिनी के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राकेश पाल (Rakesh Pal) सहित अन्य दलों के नेताओं को भाजपा में शामिल किया। उन्होंने इन नेताओं का भाजपा परिवार में स्वागत करते हुए कहा कि इन सभी के आने से पार्टी का जनाधार मजबूत होगा।