अयोध्या. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अयोध्या में आज बुधवार की सुबह अभिजीत मुहूर्त, मृगशिरा नक्षत्र व आनंद योग में पूजन-अर्चन के बाद गर्भगृह की पहली शिला रखी. राम जन्मभूमि परिसर में इस कार्यक्रम के लिए विशेष तैयारियां की गई थीं. कार्यक्रम के लिए राम जन्मभूमि परिसर में भव्य पंडाल लगाया गया था.

यह भी पढ़े : आज इन 4 राशियों पर मां लक्ष्मी की विशेष कृपा रहेगी, जाग जाएगा सोया हुआ भाग्य


सीएम योगी ने कार्यक्रम के दौरान मंदिर के आर्किटेक्ट के अलावा कारीगरों को भी सम्मानित किया. मंत्रोच्चारण के बीच सीएम योगी ने इस कार्यक्रम को संपन्न कराया. रामलला की जन्मस्थली पर बनने वाले गर्भ गृह का आकार 20 फीट चौड़ा और 20 फीट लंबा होगा. यह मंदिर वर्ष 2023 तक बनकर तैयार हो जाने की उम्मीद है.

यह भी पढ़े : Rashi Parivartan 2022: जून में इन ग्रहों का होगा राशि परिवर्तन, इन राशियों पर बरसेगी लक्ष्मी कृपा


इस अवसर पर सीएम योगी ने कहा कि राम मंदिर भारत का राष्ट्र मंदिर होगा. हम सौभाग्यशाली हैं कि राम मंदिर बनते हुए देख रहे हैं. अयोध्या में भव्य राम मंदिर का निर्माण होगा. हिंदुओं की 500 साल पुरानी इच्छा पूरी होगी. उन्होंने ये भी कहा कि गोरक्षनाथ पीठ की तीन पीढ़ी इस मंदिर आंदोलन से जुड़ी हुईं थी.

यह भी पढ़े : Aaj ka Rashifal 1 June :इन राशि वालों का हो सकता है एक्सीडेंट, चोट लगने का भय, जानिए ग्रहों की स्थिति आपके लिए अच्छी या खराब


मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि आज ये हमारा सौभाग्य है कि राम जन्मभूमि मंदिर के गर्भगृह में भी शिलाओं को व्यवस्थित रूप से रखने की शास्त्रीय परंपरा के निर्वहन का कार्यक्रम आज पूज्य संतों और न्यास के पदाधिकारियों की उपस्थिति में शुरू हो चुका है.

यह भी पढ़े : LPG Price 1 June: आज से 135 रुपये सस्ता हुआ एलपीजी सिलेंडर, देखिए नए रेट


सीएम योगी ने कहा कि श्री राम जन्मभूमि मंदिर निर्माण कार्य का शुभारंभ लगभग 2 वर्ष पहले प्रधानमंत्री मोदी के करकमलों से हुआ और सफलतापूर्वक ये निर्माण कार्य आगे बढ़ रहा है. निर्माण कार्य से जुडी संस्थाओं ने बहुत तेज़ी से काम को आगे बढ़ाया है.

उन्होंने कहा कि गोरक्षपीठ की तीन पीढिय़ा इसके लिए काम कर रही थी. अशोक सिंघल और सभी उन महान संतों की आत्माओं को आनंद की अनुभूति हो रही होगी. यह भारत का राष्ट्रीय मंदिर होगा.