चेन्नई के सहायक पुलिस आयुक्त ईश्वरन (52) और विशेष उप निरीक्षक (57) वर्षीय रवि को कोविड के खिलाफ लड़ाई के दौरान अपनी जान गंवानी पड़ी। ईश्वरन एसीपी थे और वह पल्लवरम पुलिस स्टेशन से जुड़े थे। गुरुवार रात उनका निधन हो गया, तो वहीं रवि की बुधवार रात को जान चली गई। इन दोनों अधिकारियों के निधन के साथ ही कोविड की दूसरी लहर से चेन्नई में अपनी जान गंवाने वाले पुलिसकर्मियों की कुल संख्या 12 हो गई है। दोनों अधिकारियों ने वैक्सीन की दोनों खुराक ली थी।

ईश्वरन, जो 1996 में तमिलनाडु पुलिस में सब इंस्पेक्टर के रूप में शामिल हुए थे, उनको सहायक आयुक्त के पद पर पदोन्नत किया गया था और उन्हें पल्लवरम पुलिस स्टेशन से संबद्ध किया गया था। उन्होंने 3 मई को सांस फूलने की शिकायत की थी और उनका परीक्षण पॉजिटिव था । उन्हें चेन्नई के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उनकी हालत खराब होने के बाद उन्हें 6 मई को किंग इंस्टीट्यूट ऑफ प्रिवेंटिव मेडिसिन एंड रिसर्च, गुइंडी में भर्ती कराया गया था।

रवि, जो वलसरवक्कम पुलिस स्टेशन से जुड़े थे, 5 मई को बीमार पड़ गए और बाद में उनका कोविड परीक्षण पॉजिटिव आया। उन्हें मोगापेयर के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था जहां बुधवार रात उनका निधन हो गया। चेन्नई शहर के पुलिस आयुक्त शंकर जावल ने मृतक पुलिसकर्मियों को अंतिम रूप से सम्मानित किया और घोषणा की कि कोविड -19 से मरने वाले हर पुलिसकर्मियों के लिए 3 लाख रुपये का सोलिटियम दिया जाएगा। आयुक्त ने कहा कि उन्होंने निजी अस्पतालों में कोरोना पॉजिटिव पुलिसकर्मियों के इलाज के लिए एक कोष बनाया है।