कोरोना महामारी के बीच अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की दिल्ली इकाई ने एक नई पहल की है। नाम है मिशन आरोग्य। 16 मई से प्रारंभ होने वाले इस अभियान में विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ता दिल्ली की बस्तियों में घर-घर जाकर टेंपरेचर गन और ऑक्सीमीटर के जरिए प्रत्येक व्यक्ति की स्क्रीनिंग करने का कार्य करेंगे, ताकि कोरोना महामारी को बढ़ने से बस्तियों में रोका जा सके। दरअसल, जानकारी के अभाव के कारण बहुत से लोग कोरोना के लक्षण होने पर भी उनको गंभीरता से नहीं ले रहे हैं। इन्हीं कारणों के चलते यह स्क्रीनिंग ड्राइव और अधिक महत्वपूर्ण हो जाती है।

विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ता इस अभियान के अंतर्गत दिल्ली की 100 बस्तियों में जा कर लोगों की स्क्रीनिंग व लक्षणों की जांच करेंगे। साथ ही इस महामारी के विषय में बस्ती वासियों को जागरूक भी करेंगे। जिन लोगों में कोरोना के लक्षण पाए जाएंगे उन्हें पास में होने वाले आरटी पीसीआर टेस्ट की जानकारी दी जाएगी व उन्हें टेस्ट कराने के लिए प्रोत्साहित भी किया जाएगा। इसके अतिरिक्त लोगों को सेवा भारती द्वारा चलाए जा रहे आइसोलेशन सेंटर की जानकारी भी दी जाएगी जहां वे आवश्यकता पडऩे पर जाने से स्वयं को आइसोलेट कर अपने परिवार को संक्रमित होने से बचा सकेंगे।

इस मुहिम में सभी एसओपी का पालन होगा। सभी कार्यकर्ता पीपीई किट्स पहनकर बस्ती में जाएंगे व उचित दूरी बनाकर लोगों की जांच करेंगे। विद्यार्थी परिषद के कार्यकतार्ओं ने डॉक्टर्स द्वारा जारी दिए गए शुरूआती दिशा निदेर्शों को ध्यान में रखते हुए एक कोरोना किट भी बनाई है जिसमें संक्रमण के लक्षण वाले व्यक्तियों को सैनिटाइजर, मास्क, काढ़ा मल्टीविटामिंस और बुखार के लिए दवा आदि चीजें दी जाएंगी। इस अभियान में कुल 25 टोली जाएंगी और प्रत्येक टोली में 5 कार्यकर्ता रहेंगे। बस्तियों को सैनिटाइज करना व लोगों को वैक्सीन के प्रति जागरूक करने का काम भी कार्यकतार्ओं द्वारा किया जाएगा। अभियान में लगे सभी कार्यकर्ता कोरोना के लक्षण वाले व्यक्तियों व उनके परिवार से परस्पर संपर्क में रहेंगे तथा उनके स्वास्थ्य की जानकारी भी लेते रहेंगे।

अभाविप दिल्ली के प्रांत मंत्री सिद्धार्थ यादव ने कहा, यह दिल्ली में चलने वाला सबसे बड़ा स्क्रीनिंग अभियान होगा। इस अभियान में दिल्ली की लगभग 100 बस्तियों में 25 टोली और लगभग 130 कार्यकर्ता जाएंगे। सुरक्षा की दृष्टि से सभी नियमों का पालन करते हुए एवं अपने स्वास्थ्य का ख्याल रखते हुए हम बस्तियों में जाएंगे और समाज के प्रति अपने दायित्वों का निर्वहन करेंगे। विद्यार्थी परिषद ने कोरोना के इस दूसरी लहर में दिल्ली में लगभग 4000 लोगों तक अपनी सहायता पहुंचाई है। युवाओं की मदद से हम दिल्ली को कोरोना मुक्त बनाने में सफल होंगे।