तालिबान अफगानिस्तान पर कब्जा कर चुका है। इस बीच अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में फंसे भारतीयों को एयर इंडिया की फ्लाइट से सुरक्षित वतन वापस लेकर आया गया है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, बीते रविवार की शाम एयर इंडिया की एक फ्लाइट को काबुल से दिल्ली के लिए रवाना हुई थी। जानकारी के अनुसार, यह एयर इंडिया की फ्लाइट 129 यात्रियों को लेकर दिल्ली आई है। पूर्व अफगान राष्ट्रपति अशरफ गनी के वरिष्ठ सलाहकार रिजवानुल्लाह अहमदजई भी भारत की दिल्ली पहुंचे हैं। अहमदजई ने कहा है कि अफगानिस्तान के ज्यादातर हिस्सों में शांति है। ज्यादातर सियासतदान और मंत्री राजधानी काबुल छोड़ चुके हैं। लगभग 200 लोग दिल्ली आए हैं।

दिल्ली पहुंचे अफगान सांसद अब्दुल कादिर ज़ज़ई का कहना है कि अफगानिस्तान सरकार और तालिबान के बीच शांति समझौता हुआ है। यह सिर्फ एक हैंडओवर प्रक्रिया थी। अब राजधानी काबुल में स्थिति शांत है। पाकिस्तान, तालिबान के करीबी समर्थकों में से एक है। मेरा परिवार अभी भी काबुल में है। वहीं दिल्ली पहुंचने अफगान राष्ट्रपति के वरिष्ठ सलाहकार रिजवानुल्ला अहमदजई ने कहा कि अफगानिस्तान के ज्यादातर हिस्सों में शांति है। मंत्रियों जैसे लगभग सभी राजनीतिक लोग काबुल छोड़ चुके हैं। करीब 200 लोग दिल्ली आ चुके हैं। मुझे लगता है कि यह नया तालिबान है जो महिलाओं को काम करने देगा। जानकारी के अनुसार लोगों का कहना है कि राष्ट्रपति अशरफ गनी ने उन्हें धोका दिया है।

काबुल से दिल्ली आए पख्तिया प्रांत के सांसद सैयद हसन पक्तिवाल ने बताया कि मैं देश नहीं छोड़ना चाहता। मैं यहां एक बैठक के लिए आया था। मैं अफगानिस्तान वापस जाऊंगा। वहां स्थिति वास्तव में खराब है, खासकर आज रात तो हालात और भी बुरे हो गए हैं।