बंगलादेश के राष्ट्रपति अब्दुल हमीद ने शुक्रवार को भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से कहा कि तीस्ता नदी जल बंटवारे के मुद्दे के सुलझने का बंगलादेश के लोग कई वर्षों से इंतजार कर रहे हैं। राष्ट्रपति हमीद ने कहा कि उन्हें विश्वास है कि समझौते पर शीघ्र ही हस्ताक्षर होंगे जिससे इस संबंध में भारत की प्रतिबद्धता पूरी होगी।

तीस्ता जल बंटवारे का मामला 2011 से लंबित है लेकिन भारत सरकार बंगलादेश को आश्वासन दे रही है कि वह इस समझौते को जल्द से जल्द पूरा करने के लिए काम कर रही है। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि अनसुलझे द्विपक्षीय मुद्दों को बहुत जल्द सुलझा लिया जाएगा लेकिन उन्होंने तीस्ता जल बंटवारे के मुद्दे का विशेष रूप से उल्लेख नहीं किया।


उन्होंने संयुक्त नदी आयोग को प्रभावी एवं मजबूत बनाने पर भी जोर दिया। राष्ट्रपति हमीद मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने के लिए दिल्ली आये हैं। उन्होंने नयी दिल्ली में हैदराबाद हाउस में मुलाकात की और रोहिंग्या मुद्दे पर भी चर्चा की।


उन्होंने कहा कि रोहिंग्या मुद्दा न केवल बंगलादेश के लिए बल्कि दक्षिण एशिया की सुरक्षा के लिए भी खतरा बन गया है। उन्होंने मोदी से कहा कि रोहिंग्या मुद्दे के जल्द समाधान में भारत की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण है। साथ ही कहा कि भारत बंगलादेश का सबसे करीबी दोस्त है।