बेंगलुरू की Wakefit नाम की इस कंपनी ने ऑफिशियल मेल के ज़रिये सभी को बताया है कि कंपनी उन्हें दोपहर में आधे घंटे खास नैप यानि झपकी लेने का वक्त दे रही है. Wakefit के सह संस्थापक चैतन्य रामालिंगेगोवड़ा ने कंपनी की ओर से एक घोषणा मेल के ज़रिये जारी की है. ई-मेल में साफ तौर पर लिखा गया है कि संस्थान के सभी कर्मचारियों को रोज़ाना दोपहर 2 से 2.30 बजे तक सोने का वक्त दिया जाएगा. इस दौरान सभी कर्मचारियों के कैलेंडर्स ब्लॉक कर दिए जाएंगे और सभी चैन की नींद ले सकेंगे. संस्थान की ओर से ये घोषणा ट्विटर पर भी पोस्ट की गई है, जिसके बाद लोग संस्थान की तारीफों के पुल बांध रहे हैं.

यह भी पढ़े : Horoscope May 6 : शुक्र और गुरु का मीन राशि में गोचर इन राशियों के लिए बढ़ाएगा परेशानियां , पीली वस्‍तु पास रखें


स्लीपिंग वेलनेस के लिए काम करता है Wakefit

Wakefit स्टार्ट अप खुद स्लीपिंग वेलनेस के सेक्टर में काम करता है और 6 साल में ये काफी कामयाब कंपनी रही है. उन्होंने अपनी घोषणा में कहा है कि वे हमेशा ही नींद को गंभीरता से लेते रहे हैं. ऐसे में अब वे ऑफिस में भी नैप टाइम की शुरुआत कर रहे हैं. चैतन्य ने NASA की स्टडी का हवाला देते हुए कहा है कि 26 मिनट की झपकी परफॉर्मेंस को 33 फीसदी तक बढ़ा सकती है. ऐसे में हम इस प्रैक्टिस को सामान्य बनाना चाहते हैं और अब से दफ्तर में 30 मिनट सोने के लिए दिए जाएंगे. इस दौरान कोई भी काम नहीं होगा.

यह भी पढ़े : Surya Gochar 2022 : 15 मई से सूर्य राशि परिवर्तन का इन 6 राशियों पर पड़ेगा शुभ प्रभाव, मेष व सिंह वाले करें ये काम


कंपनी के मेल में बताया गया है कि कंपनी इस प्रोजेक्ट पर काम कर रही है और जल्द ही कर्मचारियों को सोने के लिए शांत जगह और आरामदेह नैप पॉड बनाकर दिए जाएंगे, जहां उन्हें चैन की नींद आ सके. इस पोस्ट के बाद इंटरनेट पर लोगों ने रिएक्ट करते हुए कहा कि आप लोग भारतीय मार्केट में नया ट्रेंड चलाने जा रहे हैं. वैसे हम आपको बता दें कि जापान में लोगों को दफ्तर में झपकी के लिए वक्त देने का ट्रेंड पुराना है. यहां लोगों को नींद लेने के लिए न सिर्फ दफ्तर बल्कि कई पब्लिक प्लेसेज पर भी आपको जगह मिल जाएगी क्योंकि जापानी लोग शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को काफी तरज़ीह देते हैं.