असम में दो पुलिस के भीड़ का शिकार हो गए। भीड़ के द्वारा दो पुलिस वालों को पीटे जाने की एक घटना सामने आई है। भीड़ से पुलिस के पिटने की यह वारदात असम के नगांव जिले में हुई है। यह घटना राहा पुलिस स्टेशन के अंतर्गत आने वाले छपरमुख के नजदीक मिलनपुर इलाके में हुई है। बताया जा रहा है कि शुक्रवार को पुलिसकर्मियों पर भीड़ ने उस वक्त हमला किया जब वे एक केस की तफ्तीश करने मौके पर पहुंचे थे।


खबरों के मुताबिक पुलिस टीम उस इलाके में रहने वाले एक युवक हिरक ज्योति नाथ और उसके परिजनों के खिलाफ लगे केस के खिलाफ पड़ताल करने गए थे। इन लोगों के खिलाफ हिरक की पत्नी को पिछले कई महीनों से शारीरिक रुप से प्रताड़ित करने का मामला दर्ज है। बता दें कि हिरक की पत्नी 5 महीने के एक बच्चे की मां भी है। महिला के परिजनों ने पुलिस में हिरक और उसके परिवार के सदस्यों के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी।


जब छपरमुख पुलिस प्वाइंट के इंचार्ज प्रफुल्ल बोरा के नेतृत्व में तीन सदस्यों वाली पुलिस की एक टीम इलाके में पहुंची तो उस पर हमला बोल दिया गया। जानकारी के मुताबिक पुलिस पर हमला करने वाले लोगों में आरोपी हिरक और उसकी मां के साथ-साथ परिवार के अन्य सदस्य भी थे। इसके अलावा पुलिस के साथ मारपीट में उन लोगों का साथ वहां के कुछ स्थानीय लोग भी दे रहे थे।


भीड़ ने पुलिस ऑफिसर को पकड़कर एक पेड़ से बांध दिया था और उनकी पिटाई भी की। इसके साथ ही भीड़ ने पुलिस अधिकारी के बाल भी काट डाले। घटना के तुरंत बाद एक सिपाही ने इस बारे में राहा पुलिस स्टेशन के इंचार्ज को सूचना दी। सूचना मिलने के साथ ही एक अन्य पुलिस टीम मौके पर पहुंची और भीड़ के कब्जे से पुलिस अधिकारी को बाहर निकाला। जिसके बाद घायल पुलिस अधिकारी को नगांव के एक प्राइवेट नर्सिंग होम में भर्ती कराया गया। इस मामले में पुलिस ने कई लोगों को हिरासत में लिया है।