भारत के प्रधानमंत्री का जन्मदिन आगामी 17 सितंबर को मनाया जाने वाला है। इस मौके पर मोदी जी का उपहार देश के लिए ऐतिहासिक होने वाला है, क्योंकि 70 साल बाद देश में चीतों की वापसी होने जा रही है। बता दें कि साल 1952 में देश से चीता विलुप्त हो गए थे और अब भारत की विरासत को दोबारा स्थापित किया जाएगा।

ये भी पढ़ेंः  ज्ञानवापी मामले में सबसे बड़ा फैसला आज: वाराणसी जिला जज की अदालत पर टिकीं निगाहें, अलर्ट मोड पर यूपी पुलिस


17 सितंबर यानी प्रधानमंत्री के जन्मदिन के मौके पर मध्य प्रदेश के कूनो नेशनल पार्क में 8 चीतों को छोड़ा जाएगा, जिन्हें नामीबिया की राजधानी विंडहॉक से लाया जा रहा है। सूत्रों के मुताबिक, 16 सितंबर को विंडहॉक से 8 चीते जिनमें 5 मादा और 3 नर शामिल हैं। ये सभी चार्टेड विमान के जरिए भारत के लिए रवाना होंगे और 17 तारीख की सुबह जयपुर लैंड होंगे और वहां से हेलीकॉप्टर के जरिए कूनो नेशनल पार्क में छोड़ा जाएगा। 

आपको बता दें कि यह पहली बार है जब किसी मांसाहारी पशु को एक महाद्वीप से दूसरे महाद्वीप लाया जा रहा है। इस ऐतिहासिक कदम की सरहाना करते हुए पर्यावरण और जलवायु परिवर्तन मंत्री भूपेन्द्र यादव ने कहा कि इससे पर्यावरण संतुलन को कायम रखने में आसानी होगी।

ये भी पढ़ेंः  अब और अधिक शक्तिशाली होंगे चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग

नामीबिया और दक्षिण अफ्रीका से चीता लाने की तैयारी चल रही है। नामीबिया से करार के चलते शुरुआत में 8 चीतों को भारत लाया जाना है वहीं दक्षिण अफ्रीका से 12 चीते भारत आने वाले हैं। बता दें कि 2020 में सुप्रीम कोर्ट ने नामीबिया से चीते लाने को लेकर हरी झंडी दे दी थी।