भारत में कोरोनोवायरस मामलों की संख्या 424 पर पहुंच गई है। सोमवार को आई एक सर्वेक्षण रिपोर्ट में सामने आया है कि इस महामारी से खुद को बचाने के लिए देश भर में 88 प्रतिशत एहतियाती कदम उठा रहे हैं। यह खुलासा हुआ है आईएएनएस सी-वोटर गैलप इंटरनेशनल एसोसिएशन कोरोना ट्रैकर 1 के सर्वे में। दुनिया भर के 22 देशों में कोविड-19 पर किए गए इस वैश्विक सर्वे में 22,000 से अधिक लोगों से साक्षात्कार लिया गया था।


इस सर्वे के लिए प्रत्येक देश में सैंपल के लिए महिलाओं और पुरुषों से आमने-सामने बात करके, टेलीफोन, और ऑनलाइन माध्यमों से साक्षात्कार लिया गया। ये सर्वे पिछले दो सप्ताह में किया गया।


इस सर्वे में जो आंकड़े सामने आए हैं, उसके मुताबिक 88 प्रतिशत भारतीय खुद को इस महामारी से बचाने के लिए सावधानियां बरत रहे हैं। वहीं 12 फीसदी लोग अब भी इससे खुद को और दूसरों को बचाने के लिए कोई प्रयास नहीं कर रहे हैं।


सर्वे यह भी बताता है कि इस महामारी के प्रसार को रोकने के लिए वैश्विक स्तर पर 86 फीसदी लोग एहतियात बरत रहे हैं। वहीं दुनिया में कोरोनावायरस का सबसे बुरा असर झेल रहे इटली में लोग खुद को बचाने के लिए कोई प्रयास नहीं कर रहे हैं। जबकि यहां 6,000 से अधिक मौतें हुई हैं। वहीं सर्वे के मुताबिक फिलिस्तीन और फिलीपींस ऐसे देश हैं, जहां के 100 प्रतिशत लोग कोविद -19 से सावधानी बरत रहे हैं।


सावधानियां बरतने के मामले में पाकिस्तान सबसे निचले पायदान पर है। सर्वे में सामने आया कि यहां केवल 5 फीसदी लोग ही इस महामारी से बचने और इसको फैलने से रोकने के लिए सावधानी बरत रहे हैं।