एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (एडीआर) और तमिलनाडु इलेक्शन वॉच (टीईडब्ल्यू) के विश्लेषण से पता चलता है कि हाल ही में संपन्न तमिलनाडु राज्य विधानसभा चुनावों में आपराधिक आरोपों का सामना कर रहे 144 विजेताओं में से 88 ने अपने बेदाग उपविजेता के खिलाफ चुनाव जीतने में कामयाबी हासिल की। यह रिपोर्ट तमिलनाडु विधानसभा चुनाव, 2021 में सभी 234 निर्वाचन क्षेत्रों के वोट शेयर के विश्लेषण पर आधारित है, जो 6 अप्रैल को हुआ था।

इन 88 विजेताओं में से दो ने जीत के 45 प्रतिशत से अधिक अंतर से जीत हासिल की है। चेपॉक थिरुवल्लिकेनी निर्वाचन क्षेत्र से द्रविड़ मुनेत्र कडग़म (डीएमके) उदयनिधि स्टालिन ने 50.47 प्रतिशत जीत के अंतर से जीत दर्ज की। हालांकि, घोषित आपराधिक मामलों वाले 144 विजेताओं में से 541 (38 प्रतिशत) ने 50 प्रतिशत और उससे अधिक के वोट शेयर के साथ जीत हासिल की है। 234 विजेताओं में से 12 महिलाएं हैं और उन सभी ने अपने निर्वाचन क्षेत्रों में 34 प्रतिशत या उससे अधिक वोट शेयर के साथ जीत हासिल की। इन महिला विजेताओं में से, कृष्णरायपुरम निर्वाचन क्षेत्र से द्रमुक उम्मीदवार शिवगामा सुंदरी के ने अपने निर्वाचन क्षेत्र में सबसे अधिक 53.37 प्रतिशत वोट शेयर के साथ जीत हासिल की है और उनकी जीत का अंतर 17.48 प्रतिशत है।

फिर से चुने गए 79 विजेताओं में से कोई भी अपने अपने निर्वाचन क्षेत्रों में 35 प्रतिशत से कम वोट शेयर के साथ नहीं जीता है। कुल 33 (42 प्रतिशत) ने 50 प्रतिशत से अधिक वोट शेयर के साथ जीत हासिल की है। 26 (33 प्रतिशत) फिर से चुने गए विजेताओं ने जीत के 10 प्रतिशत से कम अंतर से जीत हासिल की है जबकि आठ ने जीत के 30 प्रतिशत से अधिक अंतर से जीत हासिल की है। विशलेषण में कहा गया है कि इस साल तमिलनाडु राज्य विधानसभा चुनावों के विजेताओं ने कुल मतदान के औसत 48.37 प्रतिशत मतों से जीत हासिल की। 2016 के चुनावों में, विजेताओं ने कुल मतदान के औसत 45.67 प्रतिशत मतों से जीत हासिल की थी। नोटा बटन के उपयोग के बारे में जानकारी देते हुए, जो 2013 में भारत के चुनाव आयोग द्वारा मतदाताओं को अपने निर्वाचन क्षेत्र में सभी उम्मीदवारों को खारिज करने का विकल्प देने के लिए स्थापित किया गया था, विश्लेषण में कहा गया है कि तमिलनाडु विधानसभा में मतदान किए गए 4,62,36,492 मतों में से इस साल नोटा को 3,45,538 (0.75 फीसदी) लोगों ने इस्तेमाल किया।