भारत सरकार ने हाल ही में बताया है कि दुनिया भर की जेलों में 8000 भारतीय कैद हैं। सरकारी आंकड़ों के अनुसार 82 देशों में भारत के 8000 लोग बंद हैं। इनमें सजा काटने वाले लोगों के अलावा वो लोग भी शामिल हैं जिनका ट्रायल चल रहा है। सबसे ज्यादा भारतीय गल्फ देशों की जेलों में बंद हैं।

गल्फ देशों में पिछले कई सालों से भारतीय लोग बेहतर रोजगार के अवसरों के लिए जाते रहे हैं। भारत सरकार के मुताबिक, ईरान और 6 गल्फ देशों में भारत के 4058 लोग सजा काट रहे हैं। इनमें सबसे ज्यादा संख्या सऊदी अरब में है। इस देश में 1570 भारतीय जेल में बंद हैं।

इस्लामिक राजशाही वाले सऊदी अरब में बेहद सख्त नियमों का पालन किया जाता है। सऊदी अरब के बाद संयुक्त अरब अमीरात(यूएई) का नंबर है। यूएई में 1292 भारतीय कैद हैं। वही कुवैत की जेल में 460, कतर में 439, बहरीन में 178, ईरान में 70 और ओमान में 49 भारतीयों को कैद किया हुआ है।

दुनिया के 144 देशों में से 11 देश ऐसे हैं जहां 100 से अधिक भारतीय जेल में सजा काट रहे हैं। वहीं, भारत के पड़ोसी देशों की बात करें तो देश के 7 पड़ोसी देशों में 1913 भारतीय बंद हैं। इनमें सबसे ज्यादा भारतीय नेपाल में कैद हैं। इस देश में भारत के 886 लोग जेल में बंद हैं।

इसके बाद पाकिस्तान में 524, चीन में 157, बांग्लादेश में 123, भूटान में 91, श्रीलंका में 67 और म्यांमार में 65 भारतीय लोग बंद हैं। विदेश मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, अफगानिस्तान में एक भी भारतीय कैदी नहीं है। इसके अलावा सिंगापुर और मलेशिया जैसे देशों में भी 480 भारतीय कैद हैं।

मलेशिया में जहां 409 वहीं सिंगापुर में महज 71 भारतीय लोग जेल में सजा काट रहे हैं। इसके अलावा फिलीपींस में 41, थाइलैंड में 23, इंडोनेशिया में 20 और ऑस्ट्रेलिया में 62 भारतीय जेल में बंद है। कनाडा और साइप्रस में 23, फ्रांस में 35, ग्रीस में 22, मालदीव्ज में 24 और स्पेन में 49 भारतीय जेलों में बंद हैं।

मंत्रालय ने लोकसभा में कहा कि 81 कैदियों जिनमें 73 भारतीय कैदी हैं, उन्हें साल 2003 में आए कैदी अधिनियम के प्रत्यावर्तन के तहत अपने देश ट्रांसफर किए जाने का मौका भी मिला है।