बिहार में अन्य राज्यों से प्रवासी मजदूरों के आने का सिलसिला जारी रहने के बीच उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि राज्य के 20 लाख मजदूरों को लाने के लिए 800 से ज्यादा ट्रेनें चलाई जाएंगी।

मोदी ने कहा कि लॉकडाउन के दौरान प्रवासी मजदूरों की घर वापसी के लिए अब रोजाना 100 विशेष ट्रेनें चलाई जाएंगी। रेलवे और राज्य सरकार के बीच बनी सहमति से और 20 लाख मजदूरों को लाने के लिए 800 से ज्यादा ट्रेनें चलाई जाएंगी। राज्य के भीतर 11 रेलगाडिय़ां चल रही हैं।

उन्होंने आगे दावा करते हुए कहा कि बिहार पहुंचे लोगों को क्वारंटीन केंद्रों तक पहुंचाने के लिए 4500 से ज्यादा बसें लगाई गई हैं। मोदी ने राजद पर निशाना साधते हुए कहा, सरकार मजदूरों की सेवा में लगी है, लेकिन राजद चुनाव पर नजर रखकर मजदूरों के बीच सदस्यता अभियान चलाना चाहता है। वे फूड पैकेट बांटने के समय मेम्बरशिप फॉर्म भरवाना चाहते हैं। बिहार में अब तक 8 लाख से ज्यादा प्रवासी मजदूर पहुंच चुके हैं। प्रवासी मजदूरों के पहुंचने के बाद कोरोना संक्रमितों की संख्या में भी वृद्धि देखी जा रही है।