अमेरिका के अलास्का पेनिनसुला में बुधवार रात भयानक भूकंप के झटके महसूस किए गए। इस भूकंप की तीव्रता रेक्टर स्केल पर 8.2 बताई गई है। ये झटके इतने तेज थे कि इनके बाद सुनामी की चेतावनी जारी कर दी गई है। झटकों के कारण भयानक तबाही की आशंका जताई गई है। इससे हुए नुकसान के बारे में पता लगाया जा रहा है।

अमेरिकी जियॉलजिकल सर्वे ने रात 11.15 बजे सतह के 29 मील नीचे भूकंप महसूस किया। इसका असर केंद्र से कहीं दूर तक हुआ है। यूएसजीएस के मुताबिक बाद में कम से कम दो और झटके आए हैं। इससे पहले पिछले सात दिन में इस इलाके के 100 मील के अंदर 3 की तीव्रता से ज्यादा का भूकंप नहीं आया है। इन झटकों के बाद दक्षिण अलास्का, अलास्का के पेनिनसुला और अल्यूत टापू पर सुनामी की चेतावनी दी गई है। रिपोट्र्स के मुताबिक भूकंप के जमीन के ज्यादा नीचे नहीं होने की वजह से इसके कारण शायद उतना नुकसान न हो, जितना इसके कारण उठने वाली सुनामी की लहरें से। वहीं देश के पश्चिमी तट पर होने वाले नुकसान का आकलन किया जा रहा है।

यूएस सुनामी चेतावनी केंद्र ने प्रशांत महासागर के तट पर सुनामी की चेतावनी जारी कर दी है। इसके अलावा गुआम और हवाई में भी सतर्क रहने को कहा गया है। लोगों से तट से दूर सुरक्षित स्थान पर जाने के लिए कहा गया है। अलास्का पैसिफिक रिंग आफ फायर में आता है जिसे सीस्मिक एक्टिविटी में काफी सक्रिय माना जाता है। यहीं पर मार्च 1964 में उत्तरी अमेरिका का सबसे विनाशकारी भूकंप दर्ज किया गया था जिसकी तीव्रता रिक्टर स्केल पर 9.2 थी। इससे एंकरेज, अलास्का की खाड़ी, अमेरिका का पश्मिची तट और हवाई पर भारी तबाही मची थी। भूकंप और सुनामी में 250 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई थी।