विधानसभा के मानसून सत्र के पहले दिन सोमवार को एक सवाल के जवाब में मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल की ओर से जल संसाधन मंत्री केशब महंत ने बताया कि अमस से जुड़ी भारत-बांग्लादेश सीमा में कुल मिलाकर 76.62 प्रतिशत काम पूरा हुआ है। 

इस समय महज 61.49 किमी सीमा ही खुली है। इन इलाकों में चर, पुल और कलवर्ट आदि शामिल हैं।

मंत्री ने जानकारी दी कि जल भाग के खुले हिस्से जैसे कि ब्रह्मपुत्र नदी और चर इलाकों से लगे खुले सीमा क्षेत्र में हाई-टेक फिजिकल और नॉन फिजिकल बैरियर तकनीक का इस्तेमाल किया जाएगा।

इसके लिए केंद्र सरकार ने समुचित जायजा लेने के बाद सील करने की व्यवस्था की है। राज्य सरकार की तरफ से सदन को बताया गया कि वर्ष 2012-13 से मार्च 2017 तक कुल 83,30,95,014.00 खर्च हुए हैं।