इंडोनेशिया के पूर्वी नुसा तेंगारा प्रांत में आए 7.4 तीव्रता के भूकंप (Earthquake Hits Indonesia) के बाद मंगलवार को एक सुनामी (Threat Of Tsunami) का भी पता चला है। देश की मौसम विज्ञान, जलवायु विज्ञान और भूभौतिकी एजेंसी ने यह जानकारी दी। पूर्वी नुसा तेंगारा की आपातकालीन इकाई के प्रमुख रिचर्ड एल्ट ने बताया कि मंगराई जिले में एक व्यक्ति घायल हो गया, जबकि दक्षिण सुलावेसी प्रांत के सेलयार द्वीप में कई घर क्षतिग्रस्त हो गए।

उन्होंने कहा, भूकंप (Earthquake) से दहशत फैल गई। एक व्यक्ति घायल हो गया, जब वह एक इमारत के बाहर भाग रहा था। दक्षिण सुलावेसी में हमारे सहयोगियों ने हमें बताया कि सेलयार द्वीप जिले में कई घरों को नुकसान पहुंचा है। मौसम विज्ञान (Meteorology), जलवायु विज्ञान और भूभौतिकी एजेंसी ने कहा कि भूकंप सुबह 10.20 बजे आया, जिसका केंद्र पूर्वी फ्लोर्स जिले में लारंटुका उप-जिले से 113 किमी उत्तर पूर्व में और समुद्र तल के नीचे 10 किमी की गहराई पर था।

भूकंप के तुरंत बाद पहले सुनामी की चेतावनी (Threat Of Tsunami) दी गई थी, लेकिन इसे लगभग दो घंटे बाद हटा लिया गया था। एजेंसी की प्रमुख द्विकोरिता कर्णावती ने एक संवाददाता सम्मेलन में बताया कि भूकंप के झटकों के कारण मामूली सुनामी आई और नागेकेओ और मंगगरई जिलों में इसका असर देखने को मिला। उन्होंने कहा कि तीव्र भूकंप के बाद 20 से अधिक झटके आए, जिनमें से सबसे मजबूत भूकंप झटका रिक्टर पैमाने पर 5.6 दर्ज किया गया। 2004 में, इंडोनेशिया रिक्टर पैमाने पर 9.1-9.3 की तीव्रता वाले विनाशकारी समुद्र के नीचे के मेगाथ्रस्ट भूकंप की चपेट में आ गया था, जिससे 100 फीट ऊंची विशाल सुनामी लहरों (Tsunami) की एक श्रृंखला शुरू हो गई थी। सूनामी से प्रभावित देशों में दर्ज की गई कुल 227,898 मौतों में से, इंडोनेशिया लगभग 170,000 लोगों की सबसे अधिक मृत्यु के साथ सबसे बुरी तरह प्रभावित देश बना हुआ है।