भाजपा सरकार को बड़ी सफलता है जिसके तहत एकसाथ 644 खूंखार उग्रवादियों ने अपने हथियारों समेत आत्मसमर्पण किया है। यह मामला असम का है जो उग्रवाद की मार झेल रहा है। लेकिन अब असम में पुलिस को इसमें बड़ी सफलता मिली है। राज्‍य में 8 प्रतिबंधित संगठनों के 644 उग्रवादियों ने 177 हथियारों के साथ गुरुवार को आत्मसमर्पण किया। पुलिस ने बताया कि उल्फा (आई), एनडीएफबी, आरएनएलएफ, केएलओ, सीपीआई (माओवादी), एनएसएलए, एडीएफ और एनएलएफबी के सदस्यों ने एक कार्यक्रम में असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल की मौजूदगी में आत्मसमर्पण किया। 

पुलिस महानिदेशक ज्योति महंता ने कहा है कि राज्य के लिए और असम पुलिस के लिए यह एक महत्वपूर्ण दिन है। आठ उग्रवादी समूहों के कुल 644 कार्यकर्ताओं और नेताओं ने आत्मसमर्पण किया है। इतने बडे़ पैमाने पर उग्रवादियों का आत्‍मसमर्पण करना राज्‍य पुलिस के लिए बड़ी सफलता माना जा रहा है। 

महंता ने कहा कि उग्रवादियों ने जिन हथियारों को सौंपा है उनमें एके- 47, एके-56 जैसे कई अत्‍याधुनिक हथियार हैं। उन्‍होंने कहा क‍ि यह असम के लिए यह ऐतिहासिक दिन है। उन्‍होंने कहा कि इन उग्रवादियों को असम पुलिस में जगह दी जाएगी। बता दें कि इन उग्रवादियों ने ऐसे समय पर आत्‍मसमर्पण किया है जब अगले साल विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। राज्‍य बहुत लंबे समय से उग्रवाद की मार झेल रहा है। इन उग्रवादियों के आत्‍मसमर्पण से शांति की उम्‍मीद जगी है।