केंद्रशासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर में इस वर्ष अलग-अलग मुठभेड़ों में 62 आतंकवादी मारे गये। पुलिस महानिरीक्षक विजय कुमार ने गुरुवार को बताया कि मारे गए आतंकवादियों में अधिकतर पाकिस्तान के लश्कर-ए-तैयबा आतंकवादी समूह के थे। 

ये भी पढ़ेंः गजबः अब ट्विटर के बाद कोका-कोला को खरीदेंगे एलन मस्क, फिर उसमें मिलाएंगे कोकीन


वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि मारे गए आतंकवादियों में 39 आतंकवादी लश्कर, 15 जैश-ए-मोहम्मद, छह हिजबुल-मुजाहिदीन तथा दो अल-बद्र आतंकवादी समूह के शामिल हैं। उन्होंने बताया कि इनमें से 47 स्थानीय तथा 15 विदेशी आतंकवादी थे। एक अन्य वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि अप्रैल में ही 13 अलग-अलग मुठभेड़ों में 22 आतंकवादी मारे गए। अधिकारी ने बताया कि इस साल सुरक्षा बलों के 12 जवान शहीद भी हो गये। अमरनाथ यात्रा से पहले कश्मीर घाटी में आतंकवाद विरोधी अभियान तेज कर दिया गया है। उल्लेखनीय है कि यह यात्रा दो साल के अंतराल के बाद हो रही है और इस वर्ष लगभग छह से आठ लाख श्रद्धालुओं के शामिल होने की उम्मीद है। 

ये भी पढ़ेंः यूक्रेन युद्ध का फायदा उठाएगा दक्षिण कोरिया, रूस के खिलाफ चल दी ऐसी चाल


वहीं जम्मू-कश्मीर पुलिस ने सीमावर्ती जिले कुपवाड़ा में नियंत्रण रेखा के पार से हथियारों और गोला-बारूद के परिवहन तथा तस्करी में कथित रूप से शामिल तीन आतंकवादियों को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने तीनों आतंकवादियों की पहचान कलास के मोहम्मद आमिर, हजित्रा करनाह के निसार अहमद और सुधपोरा करनाह निवासी कफील अहमद के रूप में की है, जिन्हें सीमांत जिले के विभिन्न इलाकों से गिरफ्तार किया गया है।