नागालैंड के मुख्यमंत्री टी. आर. जेलियांग ने शनिवार को फरवरी -मार्च 2018 में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले अपने मंत्रिमंडल में छह नए सदस्यों को शामिल किया।

राज्य के राज्यपाल पी.बी. आचार्य ने यहां राजभवन में एक सादे समारोह में नागा पीपुल्स फ्रंट (एनपीएफ) के विधायक पी. लोंगोन, सी. एल. जॉन, विखेहो स्वू, एस.आई. जमीर और कुजहोलुजो निन्यू और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के पी. पैवांग को पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई।

उल्लेखनीय है कि शुरहोजेली लीजित्सू और जेलियांग के नेतृत्व वाले एनपीएफ के दो गुटों के बीच सुलह के बाद आठ दिसंबर को जेलियांग ने छह कैबिनेट मंत्रियों को बर्खास्त कर दिया था। इसके कारण ही यह फेरबदल करना पड़ा है।

जिन छह मंत्रियों को बर्खास्त किया गया है, उनमें गृहमंत्री वाई. पट्टोन, संसदीय कार्य मंत्री टोकेहो येपेथोमी, सड़क और पुल मंत्री निकी किरे, पर्यावरण और वन मंत्री नीबा क्रोनू, ग्रामीण विकास मंत्री ई.ई. पेंगटियांग, और भूविज्ञान व खनन मंत्री मोनलुमो किकॉन (भाजपा) शामिल हैं।

एनपीएफ के एक नेता ने कहा कि बर्खास्त करने का उद्देश्य लीजित्सू के वफादारों को मंत्रिमंडल में शामिल करने के लिए मार्ग प्रशस्त करना था, जिसके तहत एक सुलह समझौते पर हस्ताक्षर किए गए थे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि 28 विधायकों ने उन्हें लीजित्सू के साथ सामंजस्य स्थापित करने की सलाह दी थी, क्योंकि पार्टी के चुनाव चिह्न (कॉक) को जब्त होने से बचाना सबसे महत्वपूर्ण था।

एनपीएफ सुप्रीमो लीजित्सू ने शुक्रवार को 20 एनपीएफ विधायकों के निष्कासन और नागालैंड के एकमात्र लोकसभा सदस्य नेफियू रियो समेत 13 अन्य पार्टी नेताओं का निलंबन रद्द कर दिया था।

जेलियांग द्वारा 19 जुलाई को मुख्यमंत्री के रूप में शपथ लेने के तुरंत बाद एनपीएफ ने जेलियांग और अन्य को छह साल के लिए पार्टी से बाहर कर दिया था।