जम्मू-कश्मीर सरकार ने बुधवार को अपने कर्मचारियों के इतिहास को सत्यापित करने के लिए नामित समिति की सिफारिशों के आधार पर आतंकवादी संबंधों के लिए 6 कर्मचारियों को बर्खास्त कर दिया। बर्खास्त किए गए 6 कर्मचारियों में से दो पुलिसकर्मी, दो शिक्षक, वन विभाग का एक कर्मचारी और सड़क एवं भवन विभाग का एक कर्मचारी शामिल है। बर्खास्त किए गए कर्मचारियों में दो किश्तवाड़ जिले और एक-एक पुंछ, बडगाम, बारामूला और अनंतनाग जिले के हैं।

जम्मू-कश्मीर सरकार के कर्मचारियों के इतिहास को सत्यापित करने के लिए नामित समिति ने बुधवार को इन कर्मचारियों को उनके आतंकवाद लिंक के लिए बर्खास्त करने की सिफारिश की थी। इससे पहले आधिकारिक सूत्रों ने बताया था कि आतंकवादी संगठनों से संबंध होने के कारण सरकारी कर्मचारियों को सेवा से बर्खास्त करने की सिफारिश करने वाली नामित समिति ने इन छह कर्मचारियों को बर्खास्त करने की सिफारिश की है।

सूत्रों ने कहा, इन कर्मचारियों के आतंकवाद से जुड़े होने के कारण बर्खास्तगी की सिफारिश की गई है, क्योंकि वे प्रतिबंधित आतंकवादी संगठनों के ओवरग्राउंड वर्कर (ओजीडब्ल्यू) के रूप में काम कर रहे हैं।जुलाई 2021 में, 11 सरकारी कर्मचारियों को उनके आतंकी संबंधों के कारण बर्खास्त कर दिया गया था।इस साल जुलाई में बर्खास्त किए गए कर्मचारियों में जेहाद काउंसिल के मुजफ्फराबाद स्थित प्रमुख सैयद सलाहुद्दीन के दो बेटे शामिल हैं, जो विभिन्न आतंकवादी संगठनों का समूह है।