चीन के हुबेई प्रांत की राजधानी वुहान से शुरू हुए जानलेवा कोरोना वायरस की चपेट में विश्व के 116 देश आ चुके हैं और इससे संक्रमित 5833 लोगों की मौत हो गयी है जबकि 155086 लोग इससे संक्रमित हुए हैं। भारत में भी यह धीरे-धीरे फैलने लगा है और अब तक 84 लोगों में इसकी पुष्टि हो चुकी है। इन लोगों में केरल के वे तीन लोग भी शामिल हैं, जिन्हें उपचार के बाद छुट्टी दे दी गई थी। भारत में कोरोना से अब तक एक वृद्ध महिला समेत दो लोगों की मौत हो चुकी है।


कोरोना वायरस का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है लेकिन अभी भी इससे सबसे अधिक प्रभावित चीन के लोग ही हैं। इस वायरस को लेकर तैयार की गयी एक रिपोर्ट के मुताबिक चीन में हुई मौत के 80 प्रतिशत मामले 60 वर्ष से अधिक आयु के लोगों से जुड़े थे। वर्तमान में संक्रमित लोगों की कुल संख्या आधिकारिक रिपोर्टों से काफी अधिक होने की संभावना है और इस वायरस से संक्रमित होने के कारण चीन में कोरोना से अब तक 3,199 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि 80,844 लोग इससे संक्रमित हुए हैं जिनमें से 61,644 मरीजों को ठीक कर अस्पतालों और अन्य स्थानों से छुट्टी दे दी गयी है।


चीन के बाद इटली में यह जानलेवा वायरस पूरी तरह से अपने पैर पसार चुका हैं। इटली में कोरोना के कारण अब तक 1441 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि 21157 लोग इससे संक्रमित हुए हैं जिनमें से 1,045 लोगों को अस्पतालों से छुट्टी दे दी गयी है। खाड़ी देश ईरान में भी कोरोना वायरस का कहर जारी है। ईरान में इस वायरस की चपेट में आकर 611 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि 12,729 लोग इस वायरस से संक्रमित हैं जिनमें से 2,959 मरीजों को ठीक कर वापस घर लौटने को कह दिया गया है।


इटली और ईरान के साथ दक्षिण कोरिया में कोरोना वायरस के मामलों में अचानक वृद्धि हुई है। दक्षिण कोरिया में कोरोना से अब तक 75 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि 8162 लोग इससे संक्रमित हुए हैं। चीनी नागरिकों की अच्छी-खासी आबादी वाले देश अमेरिका में भी यह गंभीर रूप से फैल चुका है। अमेरिका में कोरोना से अब तक 57 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि 2929 लोग इससे संक्रमित हुए हैं जिनमें से आठ स्वस्थ हो चुके हैं। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने शुक्रवार को कोरोना वायरस महामारी के कारण देश में राष्ट्रीय आपातकाल घोषित कर दिया। ट्रंप ने कहा, 'मैं आधिकारिक रूप से देश में आपातकाल की घोषणा करता हूं। इससे अमेरिकी प्रांतों और क्षेत्रों में कोरोना वायरस महामारी से निपटने के लिए संघीय कोष से सरकार को 50 अरब डॉलर की राशि मिलेगी।'


इससे पहले अमेरिका के न्यूयॉर्क, वाशिंगटन, कैलिफोर्निया और फ्लोरिडा समेत आठ प्रांतों में कोरोना वायरस के संक्रमण के मद्देनजर स्वास्थ्य आपातकाल की घोषणा कर दी गयी है। इस बीच स्पेन भी कोरोना वायरस के संक्रमण से गंभीर रूप से प्रभावित देश के तौर पर सामने आया। स्पेन में कोरोना से अब तक 198 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि 6394 लोग इससे संक्रमित हुए हैं जिनमें से 183 पूरी तरह स्वस्थ हो चुके हैं। फ्रांस भी इसकी गंभीर चपेट में है, जहां अब तक 91 लोगों की वायरस से मौत हो चुकी है जबकि 4499 लोग इससे संक्रमित हुए हैं जिनमें से 12 स्वस्थ हो चुके हैं।


जापान मेें कोरोना से अब तक 21, ब्रिटेन में 21, नीदरलैंड में 10, इराक में 10, जर्मनी और फिलीपींस में आठ-आठ, स्विट्जरलैंड में 13, सैन मैरीनो और इंडोनेशिया में पांच-पांच, हांगकांग में चार, ग्रीस, ऑस्ट्रेलिया, अजरबैजान और लेबनान में तीन-तीन, अल्जीरिया, मिस्र और पोलैंड में दो -दो तथा अर्जेंटीना, थाइलैंड, ऑस्ट्रिया, बुल्गारिया, सूडान, स्वीडन, गुयाना, नार्वे, यूक्रेन, मोरक्को, कनाडा, आयरलैंड, पनामा,अल्बाना, लक्जमबर्ग और ताइवान मेें एक-एक व्यक्ति की मौत हो चुकी है। घातक कोरोना वायरस के प्रकोप पर ङ्क्षचता व्यक्त करते हुए संयुक्त राष्ट्र ने इस संक्रमण की रोकथाम के लिए एक करोड़ 50 लाख अमेरिकी डॉलर की सहायता की पेशकश की है।


इस निधि का इस्तेमाल विशेष रूप से कमजोर स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली वाले देशों में किया जाएगा। डब्ल्यूएचओ ने कोरोनो वायरस के खिलाफ लड़ाई के लिए 67 करोड़ 50 लाख डॉलर जुटाने का आह्वान किया है। गौरतलब है कि विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने कोरोना वायरस के बढ़ते खतरे के बीच इसे वैश्विक महामारी घोषित कर दिया है। पूरे विश्व में कोरोना के संक्रमण से प्रभावित लोगों में से अब तक 67 हजार से अधिक लोगों को इससे मुक्ति दिलायी जा चुकी है। वर्तमान में संक्रमित लोगों की कुल संख्या आधिकारिक रिपोर्टों से काफी अधिक होने की संभावना है। एक महामारी विज्ञानी ने भविष्यवाणी की है कि दुनिया की 60 प्रतिशत आबादी अंतत: प्रभावित हो सकती है।