उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जम्मू-कश्मीर के शोपियां जिले में आतंकवादियों से मुठभेड़ में शहीद हुए बागपत निवासी सेना के हवलदार पिंकू कुमार के शौर्य और वीरता को नमन करते हुए भावभीनी श्रद्धांजलि देते हुए उनके परिजनों को 50 लाख रुपये की आर्थिक सहायता प्रदान करने की घोषणा की है। 

योगी ने परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी देने तथा जिले की एक सडक़ का नामकरण शहीद के नाम पर करने की भी घोषणा की है। मुख्यमंत्री ने रविवार को कहा है कि राष्ट्र की रक्षा के लिए अपने प्राण न्यौछावर करने वाले शहीद के सर्वोच्च बलिदान को सदैव याद रखा जाएगा। उन्होंने शहीद पिंकू कुमार के परिजनों के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त करते हुए कहा कि शोक की इस घड़ी में राज्य सरकार उनके साथ है। उन्होंने कहा कि शहीद के परिवार को हर सम्भव मदद प्रदान की जायेगी। 

उधर, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने यहां जनता दरबार में 350 से अधिक फरियादियों की समस्यायों को जाना और उसके निराकरण का भरोसा दिया। चार दिवसीय दौरे पर शनिवार को गोरखपुर पहुंचे मुख्यमंत्री ने रविवार सुबह गोरखनाथ मंदिर में करीब 350 फरियादियों से मुलाकात कर उनकी समस्याएं जानीं और उन्हें त्वरित निराकरण का भरोसा दिया। मुख्यमंत्री की दिनचर्या परंपरागत रही। शिवावतारी महायोगी गुरु गोरक्षनाथ, अपने गुरु ब्रह्मलीन महंत अवेद्यनाथ की प्रतिमा समक्ष पूजन अर्चन के उपरांत सीएम योगी ने मंदिर परिसर का भ्रमण कर वहां चल रहे कार्यों का निरीक्षण किया। वह मंदिर की गोशाला में भी गए और गोवंश को चना-गुड़ खिलाने के साथ ही उन्हें दुलारा। 

इसके बाद वह मंदिर परिसर स्थित हिन्दू सेवाश्रम में पहुंचे जहां गोरखपुर और आसपास के जिलों के करीब 350 फरियाद उनसे मिलने पहुंचे थे। मुख्यमंत्री के निर्देश पर सभी को पंक्तिबद्ध कुर्सियों पर बैठाया गया था। सीएम योगी एक-एक कर खुद चलकर उनके पास पहुंचे और उनकी समस्याएं जानीं। उन्होंने सबसे पत्रक लिया और आश्वस्त किया कि समस्या का निराकरण जल्द करा दिया जाएगा। योगी ने लोगों से अपील की कोरोना से बचाव के लिए जारी दिशानिर्देश का पालन करें। मास्क जरूर लगाएं, सामाजिक दूरी का पालन करें। होली की शुभकामना देते हुए कहा कि होली पर उमंग के साथ सतर्कता भी बहुत आवश्यक है।