जम्मू एवं कश्मीर (Kashmir terrorist attack) के पुंछ जिले में सोमवार को आतंकवादियों के साथ मुठभेड़ में एक जूनियर कमीशंड अधिकारी (जेसीओ) समेत पांच जवान शहीद हो गए। रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता लेफ्टिनेंट कर्नल देवेंद्र आनंद ने बताया, आतंकवादियों के साथ मुठभेड़ (encounter with terrorists) में गंभीर रूप से घायल हुए जेसीओ सहित पांच सैनिकों को पास के एक चिकित्सा केंद्र में ले जाया गया, लेकिन उन्हें बचाया नहीं जा सका। इलाके में ऑपरेशन अभी भी जारी है।

इससे पहले सेना ने विशेष सूचना के बाद पुंछ जिले के सुरनकोट इलाके के दारा की गली के पास के गांवों की घेराबंदी कर तलाशी अभियान शुरू किया था। छिपे हुए आतंकवादियों ने आसपास के जवानों पर गोलीबारी की, जिससे जेसीओ सहित पांच सैनिक गंभीर रूप से घायल हो गए थे। माना जा रहा है कि करीब 4 से 5 आतंकवादी  (Kashmir terrorist attack)  घटनास्थल पर छिपे हुए थे। आतंकी एक तरफ तो सिविलियन खासकर गैर-कश्मीरी और कश्मीरी पंडितों की टारगेटेड किलिंग कर घाटी को फिर से 90 के दशक में धकेलने की कोशिश कर रहे हैं, दूसरी तरफ सुरक्षा बलों पर पहले की तरह हमले जारी रखा है। 

बता दें कि कश्मीर में पिछले 10 दिनों में ही आतंकी हमलों में 7 सिविलियन मारे गए हैं और 5 जवान शहीद हुए हैं। पिछले हफ्ते ही आतंकियों ने श्रीनगर के एक स्कूल में घुसकर प्रिंसिपल सतिंदर कौर (Principal Satinder Kaur Murder) और टीचर दीपक चंद (Teacher Deepak Chand Murder) को गोलियों से भून दिया था। उससे दो दिन पहले ही आतंकियों ने श्रीनगर के जाने-माने फार्मासिस्ट और कश्मीरी पंडित माखन लाल बिंद्रू (Kashmiri Pandit Makhan Lal Bindru Murder) की गोली मारकर हत्या की थी। उसी दिन बिहार के एक ठेले वाले वीरेंद्र पासवान और बांदीपुरा टैक्सी असोसिएशन के अध्यक्ष मोहम्मद शफी लोन की गोली मारकर हत्या कर दी।