कर्नाटक के बेलगावी जिले में सामने आए आत्महत्या (Belagavi suicide) के मामले से चौंकाने वाली जानकारियां सामने आ रही हैं। पुलिस के अनुसार, पति अपनी पत्नी की मौत का सदमा बर्दाशत नहीं कर पा रहा था। जिसके चलते उसने अपने चार बच्चों और खुद को जहर (family found dead in Belagavi) देने से पहले अपनी मृतक पत्नी का जन्मदिन मनाया था। शनिवार को हुक्केरी तालुक के बोरागल गांव में अपने आवास पर गोपाल हादिमानी (Gopal Hadimani) (46), एक सेवानिवृत्त सैनिक अपने बच्चों सौम्या हदीमानी (19), श्वेता हदीमानी (16), साक्षी हदीमानी (11) और सृजन हदीमनी (8) के साथ मृत पाया गया।

पुलिस के अनुसार, कोविड-19 से संक्रमित गोपाल हादिमणि की पत्नी जयश्री की 6 जुलाई को ब्लैक फंगस के कारण मृत्यु (black fungus) हो गई थी। पत्नी की मृत्यु के बाद गोपाल (Gopal Hadimani) गहरे अवसाद में चले गए। उन्होंने शुक्रवार रात अपनी पत्नी जयश्री का जन्मदिन अपने बच्चों के साथ मनाया था। पुलिस ने बताया कि जश्न के बाद उसने अपने बच्चों को जहर मिला हुआ पानी दिया और बाद में उसका सेवन खुद भी कर लिया। उन्होंने एक नोट (Belagavi suicide) छोड़ा था जिसमें लिखा था कि उनके बच्चों और उनकी मौत के लिए कोई जिम्मेदार नहीं है। उन्होंने अंतिम संस्कार के लिए नोट के पास 20,000 रुपये नकद भी रखे थे। रिश्तेदारों और पड़ोसियों ने बताया कि बच्चे सोमवार से फिर से स्कूलों में जाने के लिए उत्साहित थे।

अब तक राज्य में कोविड-19 अवसाद के कारण 41 मौतों की सूचना मिल चुकी है, जिसमें शनिवार को सामने आई पांच मौतें शामिल हैं। मौतें संक्रमण के डर, अपनों को खोने और महामारी के कारण हुए आर्थिक नुकसान के कारण हुई हैं। कर्नाटक में उडुपी जिला 11 मामलों के साथ कोविड अवसाद से संबंधित मौतों में सबसे ऊपर है जबकि बेंगलुरु 9 मौतों के साथ दूसरे स्थान पर है। जल संसाधन मंत्री गोविंद करजोल (Water Resources Minister Govind Karjol), जो बेलगावी जिले के प्रभारी भी हैं, ने कहा कि कर्नाटक सरकार ने कोविड-19 के कारण हुई मौतों पर गंभीरता से संज्ञान लेते हुए लोगों से उम्मीद न खोने और कड़े कदम उठाने को कहा है।