आंध्रप्रदेश के कलिंगापट्टनम में रविवार शाम चक्रवाती तूफान गुलाब के तट से टकराने की आशंका के मद्देनजर ओडिशा आपदा प्रबंधन बल(ओडीआरएएफ)की 42 और राष्ट्रीय आपदा राहत बल(एनडीआरएफ) की 24 टीमों के अलावा दमकल विभाग की 102 टीमों को तैनात किया गया है ओडिशा के मुख्य विशेष राहत आयुक्त पी के जेना के मुताबिक भारतीय मौसम विभाग के अनुमान के अनुसार कंधमाल, गंजम, रायगढ़ , मलकानिगिरि, कोरापुट, नबरंगपुर और गजपति जिलों में इसका अधिक असर होने की आशंका है। 

इनके सात जिलों के अलावा राहत एवं बचाव दलों को नयागढ़ जिले में भी तैनात किया गया है। उन्होंने इन सात जिलों के कलेक्टरों को सतर्कता बरतने के निर्देश दिए गए हैं। मौसम विभाग ने कहा है कि इन सात जिलों में हवाओं की रफ्तार कम रहेगी और बहुत भारी बारिश होने की आशंका है। जेना ने कहा कि भारी बारिश के कारण रसहीकुल्या, नागावाली और वंशधारा नदियों में बाढ़ जैसी स्थिति हो सकती है और रायगढ़ तथा गजपति जिलों में भूस्खलन जैसी घटनाएं हो सकती हैं। 

इसके अलावा अन्य स्थानों पर छोटे पेड़ उखड़ सकते हैं। गजपति जिले में एहतियाती उपाय के तौर पर प्रशासन ने सभी अधिकारियों की छुट्टी को दो दिनों के रद्द कर दिया है और यह भी कहा कि जिला मुख्यालय की अनुमति के बिना कहीं भी नहीं जाएं। इस भीषण चक्रवाती तूफान को देखते हुए मछुआरों को 27 सितंबर तक समुद्र में मछली पकडऩे के लिए नहीं जाने की सलाह दी गई है।