आप जिन एक्सेसरीज का प्रतिदिन इस्तेमाल करते हैं उनमें भी रोग फैलाने वाले बैक्टीरिया रहते हैं। बैक्टीरिया भी एकाध नहीं बल्कि टॉयलट शीट से चार सौ गुणा ज्यादा। इस हकीकत का खुलासा हुआ ब्रिटेन में हुए शोध से जिसमें पाया गया कि झुमके, अंगूठी और घड़ी जैसी एक्सेसरीज में टॉयलट शीट से 400 गुणा ज्यादा रोगाणु रहते हैं।

जानकारी के मुताबिक ब्रिटिश शोध में बताया गया कि 66 फीसदी लोग रोजमर्रा की अपनी एक्सेसरीज की सफाई नहीं करते हैं। सात दिन तक पहनने पर झुमके, अंगूठी और घड़ी में टॉयलट शीट के मुकाबले 428 गुणा ज्यादा रोगाणु पाए जाते हैं। इस शोध में पाया गया कि ज्वैलरी पर 7 दिन में बैक्टीरिया की संख्या हजारों में हो गई। शोध करने वाले वैज्ञानिकों ने पाया कि झुमके, अंगूठी जैसी ज्वैलरी पर बेहद घातक बैक्टीरिया थे जो फूड प्वॉइजनिंग और संक्रमण पैदा कर सकते हैं। हमारे हाथ हर दिन खाने से लेकर हजारों अनजान वस्तुओं के संपर्क में आते हैं। जब ज्वैलरी की सही ढंग से सफाई नहीं होती है तो बैक्टीरिया का फैलाव तेजी से होता है। मनुष्य हर घंटे कम से कम 16 बार अपने चेहरे तो छूता है। इससे बैक्टीरिया के मुंह में संक्रमण का खतरा पैदा हो जाता है।

बताया जा रहा है कि शोध के दौरान केवल सात दिन तक अंगूठी पहनने पर उसके भीतर सबसे घातक 5 बैक्टीरिया पैदा हो गए। अंगूठी के भीतर बैक्टीरिया की 5 कॉलोनी, एक फंगस कॉलोनी और एक काली फंफूद की कॉलोनी विकसित हो गई। काली फंफूद से त्वचा को गंभीर नुकसान पहुंचता है। उधर, एक सप्ताह तक घड़ी पहनने पर उसके अंदर 4 तरह के बैक्टीरिया पाए गए। घड़ी पर एक सप्ताह के अंदर बैक्टीरिया की 20,020 कॉलोनी पाई गई। उधर, झुमकों पर बैक्टीरिया की 485 कॉलोनी पाई गईं। इसमें कुछ ऐसे बैक्टीरिया थे जो फूड प्वॉइजनिंग का खतरा पैदा कर सकते हैं।