उत्तर प्रदेश के कानपुर में क्राइम ब्रांच की टीम ने हैलट अस्पताल में छापेमारी कर 2 नर्सिंग स्टाफ व 2 अन्य लोगों को रेमडेसिवीर इंजेक्शन की कालाबाजारी करते हुए रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया। मुखबिर से काइम ब्रान्च की टीम को सूचना मिली कि रेमीडिसीवर इन्जेक्शन कुछ व्यक्तियों द्वारा ऊंचे दाम पर बेचा जा रहा है। 

काइम ब्रान्च की टीम ने ग्राहक बन कालाबाजारी करने वाले आयुष कमल से सम्पर्क किया गया और इस दौरान बातचीत कर क्राइम ब्रांच की टीम ने रेमीडिसीवर इन्जेक्शन 37000/- रूपये में खरीदने के लिए तय किया। इसके बाद इंजेक्शन की डिलीवरी के लिए तय किए गए स्थान पर टीम के सदस्य पहुंचे तो इंजेक्शन की डिलीवरी देने के लिए चेतांष चौहान ,अंशुल शर्मा व आयुष कमल के साथ मौके पर पहुंची और तय रकम के अनुसार इंजेक्शन डिलीवर करने लगे तभी पहले से मौके पर मौजूद क्राइम ब्रांच के सदस्यों ने इन सभी को गिरफ्तार कर लिया। 

पूछताछ में उन्होंने बताया कि इस काम में इन तीनों के साथ हैलट हास्पिटल में नर्सिंग स्टाफ के तौर काम करने वाला विक्रम भी शामिल है जो मरीजों को लगाए जाने वाले इंजेक्शन चुरा कर उन्हें उपलब्ध कराता था, जिसे तत्काल क्राइम ब्रांच की टीम ने गिरफ्तार कर लिया।