द्रमुक अध्यक्ष एम के स्टालिन की अध्यक्षता में 34 सदस्यीय मंत्रिमंडल शुक्रवार को राजभवन में शपथ ग्रहण करेगा। राजभवन की ओर से जारी विज्ञप्ति में कहा कि स्टालिन ने आज विभागों के साथ-साथ मंत्रियों के रूप में नियुक्त किए जाने वाले विधायकों की एक सूची भेजी है। राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित ने नामित मुख्यमंत्री द्वारा की गई सिफारिशों को मंजूरी दे दी है और विभागों को आवंटित किया गया है। 

स्टालिन ने उन वरिष्ठ नेताओं को अपने मंत्रिमंडल में शामिल किया है जिन्होंने पूर्व मंत्रियों के रूप में कार्य किया था, और कुछ नए चेहरों को भी शामिल किया गया है उनमें पी के सेकर बाबू, एस एम नसर, चेन्नई के पूर्व मेयर सुब्रमण्यन, द्रमुक पूर्व सचेतक आर सखापानी, पी मूर्ति, आर गांधी, एस एस शिवशंकर, पलानीवेल त्यागराजन, अनबिल महेश मोय्यामोजी, शिवा वी मयनाथन, सीवी गणेशन और टी मनो थांगराज हैं। 

मंत्रिमंडल में दो महिला प्रतिनिधि को भी शामिल किया गया है जिनमें पूर्व मंत्री गीता जीवन और एक नया चेहरा एन कयालविजी सेल्वराज हैं। मुख्यमंत्री के रूप में स्टालिन के पास सार्वजनिक सामान्य प्रशासन, आईएएस, आईपीएस, अन्य अखिल भारतीय सेवा, जिला राजस्व अधिकारी, पुलिस, गृह, विशेष प्रोत्साहन, विशेष कार्यक्रम कार्यान्वयन और अन्य विभाग होंगे। पूर्व मंत्री एवं द्रमुक महासचिव दुरईमुरुगन का मंत्रिमंडल में दूसरा स्थान होगा और उन्हें जल संसाधान विभाग आवंटित किया जाएगा। द्रमुक की 10 साल के अंतराल के बाद छठी बार सत्ता में वापसी हुई है।