कोरोना वायरस संक्रमण के संकट बीच बिहार के बेरोजगारों के लिए एक अच्छी खबर आई है। राज्य सरकार ने 33,916 शिक्षकों की नियुक्ति का फैसला लिया है। मंत्रिमंडल की मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अध्यक्षता में हुई बैठक के बाद प्रधान सचिव दीपक प्रसाद ने बताया कि बैठक में कुल 11 एजेंडों पर निर्णय लिया गया।

उन्होंने बताया कि बैठक में राज्य के माध्यमिक विद्यालय विहीन पंचायतों में स्थापित किए जा रहे उच्च माध्यमिक विद्यालयों में कुल 32,916 माध्यमिक शिक्षकों के पद तथा इन विद्यालयों में कम्प्यूटर विषय में उच्च माध्यमिक शिक्षक के 1000 पद यानी कुल 33,916 शिक्षकों के पदों के सृजन की स्वीकृति दी गई है।

प्रसाद ने बताया कि मार्च, 2020 में हुई असामयिक बारिश एवं ओलावृष्टि से क्षतिग्रस्त फसलों के लिए भी मंत्रिमंडल ने 518$ 42 करोड़ रुपये कृषि इनपुट अनुदान की स्वीकृति दी है। मार्च, 2020 में और असामयिक वर्षा एवं ओलावृष्टि से राज्य के 23 जिलों में फसल क्षतिग्रस्त हुई है। कृषि विभाग द्वारा बताया गया कि 33 प्रतिशत से अधिक की क्षति हुई है। यह राशि आपदा प्रबंधन विभाग द्वारा शिक्षा विभाग को उपलब्ध कराई जाएगी। मंत्रिमंडल की बैठक में संविदाकर्मियों को मार्च और अप्रैल महीने का पूरा वेतन देने पर भी मुहर लगा दी गई है। सरकार ने तय किया है कि राज्य में संविदा कर्मचारियों को अप्रैल-मार्च का पूरा मानदेय दिया जाएगा और उनकी उपस्थिति की जांच नहीं की जाएगी।