गुवाहाटी

रेलवे स्टेशन से पकड़े गये 31 संदिग्ध बांग्लादेशी नागरिकों को अाज सीजेएम

अदालत में पेश किया गया, जिसके बाद अदालत ने 4 नागरिकों को पांच दिनों के

लिए पुलिस हिरासत में भेज दिया गया है। वहीं बाकी सभी 27 लोगों को न्यायिक

हिरासत में भेज दिया गया है।

जिनमें छह बच्चे भी शामिल हैं। जिन्हें शिशु

गृह भेजा गया है। इन सभी को आगामी 20 अक्तूबर को पुनःअदालत में हाजिर कराया

जाएगा, जिन नागरिकों को अदालत ने पुलिस हिरासत में भेजा है ,उनके नाम

क्रमशः हासन विश्वास ,सुलेमान सारोबार ,मों.जमाल और मों.बाबु है। वहीं छह

बच्चों को शिशु आश्रम में रखा गया है।

इन लोगों ने स्वीकार किया कि वे लोग

सीमा पार कर अवैध तरीके से भारत में प्रवेश किये थे । सीमा पार कराने के लिए

दलालों ने इनसे 8 हजार रूपए प्रति व्यकि्त लिया था। सभी लोग त्रिपुरा

सि्थत भारत-बांग्लादेश अंतर्राष्ट्रीय सीमा से दलालों की सहायता से भारत

में प्रवेश किये थे। उसके बाद वे लोग गुवाहाटी के रास्ते बेंगलुरू रोजगार

के लिए चले गए थे ।

तीन वर्ष बाद जब स्वदेश लौटने की फिराक में थे। तभी

रेलवे पुलिस ने गुवाहाटी रेलवे स्टेशन से इन सभी को पकड़ लिया। अदालत में

पेशी से पूर्व पुलिस ने सभी संदिग्ध बांग्लादेशी नागरिकों की मेडिकल जांच

करायी। मालुम हो कि ये सभी संदिग्ध बांग्लादेशी नागरिक बेंगलुरू में

मजदूरी और घरों में नौकर  के रूप में  काम करते थे। 

ये सभी बेंगलुरू से

गुवाहाटी, गुवाहाटी बेंगलोर एक्सप्रेस से आए थे और कल गुवाहाटी से अगरतला

जाने के लिए कंचनजंघा एक्सप्रेस का इंतजार कर रहे थे तभी शक के आधार पर

रेलवे पुलिस ने इनसे पूछताछ की, जिसके बाद इन्हें गिरफ्तार कर लिया गया

था।