मध्य प्रदेश के ग्वालियर जिले में शनिवार सुबह हड़कंप मच गया।  महाराज बाड़ा पर क्रेन हादसा हो गया।  हादसे में 3 लोगों की मौके पर ही दर्दनाक मौत हो गई और 2 लोग घायल हो गए।  इसके बाद इलाके में चीख-पुकार मच गई।  

लोगों ने तुरंत एंबुलेंस बुलाई और  घायलों को जिला अस्पताल भेजा. सूचना मिलते ही जिले के प्रभारी मंत्री तुलसी सिलावट, आला अधिकारी और पुलिस बल तुरंत मौके पर पहुंच गए। घटना को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने ट्वीट कर दुख जताया.

महाराज बाड़ा पर ये दर्दनाक हादसा उस वक्त हुआ जब क्रेन की मदद से ऐतिहासिक पोस्ट ऑफिस बिल्डिंग पर तिरंगा झंडा लगाया जा रहा था। उस वक्त क्रेन की हाइड्रॉलिक मशीन का प्लेटफॉर्म करीब 60 फीट ऊंचाई पर था।

अचानक ये प्लेटफॉर्म टूट गया और निगमकर्मी गिर गए। तीन कर्मियों की मौके पर ही मौत हो गई. बता दें, स्वतंत्रता दिवस के मौके पर ग्वालियर की ऐतिहासिक इमारतों पर तिरंगा लहराने की परंपरा है। इसी परंपरा के मद्देनजर क्रेन से झंडा लगाया जा रहा था।

इस दर्दनाक हादसे पर शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट किया-  ग्वालियर में महाराज बाड़ा स्थित पोस्ट ऑफिस पर मशीन अनलोड करते समय हुई दुर्घटना में 3 कर्मचारियों के निधन व 3 लोगों के घायल होने का दुखद समाचार प्राप्त हुआ। ईश्वर से दिवंगत आत्माओं की शांति, परिजनों को संबल देने व घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की प्रार्थना करता हूं।  ॐ शांति! वहीं प्रभारी मंत्री तुलसी सिलावट ने कहा- बहुत दुखद घटना है. पूरी सरकार मृतक कर्मचारियों के दुख में खड़ी है. हादसे की विस्तृत जांच की जाएगी।

हादसे को लेकर नगर निगम कर्मचारी नेता जयराम चौहान ने कहा कि इसके लिए अधिकारी जिम्मेदार हैं। इस काम के लिए प्रशासनिक सोच और टेक्निकल एडवाइजरी जरूरी थी. इतनी विशाल मशीनों पर ट्रेंड स्टाफ को चढ़ाया जाना चाहिए। लेकिन, यहां अनट्रेंड कर्मचारी चढ़ाए गए. जिम्मेदार अधिकारियों ने सोचा भी नहीं कि बड़ी घटना हो सकती है। हुआ वही जिसका डर था. हादसा हुआ और तीन कर्मचारी काल का ग्रास बन गए। हमारी मांग है कि जिम्मेदार अधिकारियों के खिलाफ हत्या का प्रकरण दर्ज किया जाए।