कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया को परेशान कर दिया है, वहीं दूसरी ओर कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों को क्वारंटीन सेंटर से भी चौंकाने वाले खुलासे सामने आ रहे हैं।  ऐसा ही एक चौंकाने वाला मामला झारखंड से भी सामने आया है।   क्वारंटीन सेंटर में कोरोना वायरस से निजात पाने के लिए भर्ती की गईं ये महिलाएं गर्भवती पाईं गईं हैं।  

आपको बता दें कि ये क्वारंटीन सेंटर पुलिस और प्रशासन की निगरानी में चल रहा था बाद में इन महिलाओं को जेल में शिफ्ट कर दिया गया जहां ये तीनों ही महिलाएं गर्भवती पाईं गईं। झारखंड की राजधानी रांची में कोरोना पीडि़त तबलीगी जमात की तीन महिलाएं क्वारंटीन सेंटर में एडमिट थीं, ये महिलाएं विदेशी थी, इनके बारे में एक हैरान करने वाला खुलासा सामने आया है। 

ये तीनों ही विदेशी महिलाएं पिछले 111 दिनों तक लगातार क्वारंटीन सेंटर में रहने के बाद जेल में शिफ्ट कर दीं गयीं थीं।  इस दौरान इन महिलाओं को किसी भी तरह के बाहरी शख्स को मिलने की इजाजत नहीं थी, ऐसे में पुलिस तथा प्रशासन पर सवाल खड़े हो रहे हैं।  मीडिया में आईं खबरों के मुताबिक दो महिलाएं इनमें से कुछ दिनों पहले की गर्भवती हैं जबिक तीसरी महिला कुछ दिन बाद गर्भवती हुई है, लेकिन तीनों ही महिलाओं के गर्भ तीन महीने से अधिक के नहीं हैं। 

इस मामले का खुलासा दरअसल तब हुआ, जब हाई कोर्ट से जमानत मिलने के बाद तीनों महिलाएं जेल से बाहर निकलीं।  इन महिलाओं के पति और 17 अन्य लोग भी उसी समय जेल से बाहर निकले थे।  दरअसल इन महिलाओं को 30 मार्च को 17 विदेशी तब्लीगी जमात के सदस्यों के साथ पुलिस ने हिरासत में लेते हुए इन पर लॉकडाउन के समय कानून तोडऩे और वीजा नियमों का उल्लंघन करने के मामले का आरोप लगाया था इसके बाद सभी लोगों को खेलगांव स्थित क्वारंटीन सेंटर में रखा गया था।