नागालैंड में 27 फरवरी को होने वाले विधानसभा चुनाव को स्वतंत्र और निष्पक्ष तरीके से संपन्न कराने के लिए चुनाव आयोग ने नागालैंड में केंद्रीय बल की कुल मिलाकर 281 कंपनियों को तैनात करने का फैसला किया है।


मुख्य चुनाव अधिकारी अभिजीत सिन्हा ने कहा, 'केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल (सीएपीएफ) की 281 कंपनियों में से 77 कंपनियां पहले ही यहां पहुंच चुकी हैं, जिसे पूरे राज्य में तैनात किया गया है।


सीएपीएफ के जवानों को नकद की रोकथाम, हथियार, शराब और अवैध वस्तुओं की तस्करी को रोकने के लिए राज्य में तैनात किया जा रहा है।


सीएपीएफ की शेष 204 कंपनियां को 18 फरवरी को त्रिपुरा चुनाव संपन्न होने के बाद यहां तैनात किया जाएगा।


बता दें कि नागालैंड में विधानसभा चुनाव के लिए 195 उम्मीदवार मैदान में हैं। नेशनलिस्ट डेमक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी (एनडीपीपी) के उम्मीदवार एवं तीन बार मुख्यमंत्री रहे नेफियू रियो कोहिमा जिले के उत्तर अंगामी-2 विधानसभा क्षेत्र से निर्विरोध निर्वाचित घोषित कर दिये गये हैं। उनके प्रतिद्वंद्वी ने अपना नामांकन वापस ले लिया। रियो के निर्वाचन के बाद राज्य की 59 विधानसभा सीटों पर चुनाव होना बाकी रह गया है।


राज्य में पांच लाख 89 हजार 806 महिलाओं समेत कुल 11 लाख 91 हजार 513 मतदाता अपने मताधिकार का इस्तेमाल करेंगे। मतदान के लिए राज्य भर में 2196 मतदान केंद्र बनाये जाएंगे और दो सहायक केंद्र भी बनाएं जाएंगे। नागालैंड में 27 फरवरी को मतदान होने वाला है और तीन मार्च को परिणामों की घोषणा होगी।