काकोपथार। असम के पड़ोसी राज्यअरुणाचल प्रदेश के चौखाम स्थित एक व्यक्तिगत मलिकाधीन चाय बागान में चायपत्ती तोड़ने  तथा ढोने  के लिए काकोपथार पुलिस अंतगर्त लोहाली तथा सेलेंगगुड़ी , गांव से हर रोज बाल श्रमिकों को  एक बोलेरो पिक-अप से ले जाया जाता है तथा काम कराने के पश्चात इसी तरह वापस  छोड़ दिया जाता है । 

इसी क्रम में आज काकोपथार अाट्सा की उप शाखा समिति ने शाम लगभग 6.30 बजे बाल श्रमिकों से भरे हुए बोलेरो पिक-अप को पकड़ कर पुलिस के हवाले कर दिया। जानकारी अनुसार फिलोबाडी के जयंत नामक ठेकेदार के निर्देशानुसार बाल श्रमिकों को ले जाकर अरुणाचल में काम कराया जा रहा था। 

10 बालिकाओं, सात बालकों समेत कुल पच्चीस श्रमिकों को उक्त बोलेरो में पाया गया। बोलेरो चालक ने ब ताया कि चाय बागान के मालिक एवं  ठेकेदार के बारे  में उसे कुछ पता नहीं है । उसके गालथ के मालिक का नाम प्रशांत सोनोवाल है तथा वह सेलेंगगुड़ी , का निवासी है। पुलिस ने श्रमिकों से पूछताछ कर घर वापस  भेज दिया तथा ड्राइवर से पूछताछ जारी है।