असम सहित देशभर में इन दिनों नागरिकता संशोधन कानून को लेकर बहस छिड़ी हुई है। भारतीय नागरिकता के मामले में राजस्थान भी अछूता नहीं है। पाकिस्तान में जुल्मों सितम से परेशान होकर बड़ी संख्या में पाक विस्थापित प्रदेश में रह रहे हैं। जिन्हें यहां रहते लंबा वक्त हो गया है। इसकी एक वजह ये भी कि भारत के मरुस्थलीय जिले पड़ोसी देश पाकिस्तान से सटे हैं। पाक विस्थापितों को समय-समय पर भारतीय नागरिकता प्रदान की जाती रही है।


बीते अक्टूबर और नवंबर माह में अकेले जयपुर जिला कलक्ट्रेट की ओर से 35 पाक विस्थापितों को भारतीय नागरिकता प्रदान की गई है। 15 अक्टूबर को 14 और 27 नवंबर को 21 लोगों को जयपुर कलक्ट्रेट की ओर से नागरिकता दी गई थी। मई 2017 से अब तक प्रदेश में लगभग 2400 लोगों को भारतीय नागरिकता मिल चुकी हैं। इनमें से अधिकांश पाक विस्थापित हैं, जो पिछले 10 से 12 साल से प्रदेश में रह रहे थे। औपचारिकताएं पूरी करने के बाद उन्हें नागरिकता प्रदान की गई।


पाक विस्थापितों को नागरिकता प्रदान करने का अधिकार राजस्थान में केवल जयपुर, जोधपुर और जैसलमेर के जिला कलक्टरों को ही दिया गया है। इसके अलावा शेष सभी जिलों में नागरिकता देने का अधिकार राज्य सरकार के गृह सचिव को है। जयपुर, जोधपुर और जैसलमेर के जिला कलक्टर को छोड़कर अन्य जिलों के कलक्टर केवल आवेदन लेकर उसे राज्य सरकार को भेजते हैं।


जयपुर में सबसे पहले 15 मई 2017 में नागकिता प्रदान की थी। 2017 से लेकर अब तक अकेले जयपुर कलक्ट्रेट की ओर से 150 पाक विस्थापितों को भारतीय नागरिकता प्रदान की गई है।

इस साल विधानसभा के बजट सत्र के दौरान भी भाजपा विधायक राजेंद्र राठौड़ ने पाक विस्थापितों को भारतीय नागरिकता दिए जाने के मामले को उठाया था। जिस पर संसदीय कार्य मंत्री शांति धारीवाल ने सदन में सरकार की ओर से जवाब दिया कि अकेले जोधपुर शहर में पाक विस्थापितों के सबसे ज्यादा 2656 आवेदन आए हैं। इनमें से 1112 लोगों को नागरिकता दी जा चुकी है। 1110 आवेदन पेंडिंग हैं। इसके अलावा 434 आवेदन खामियों के चलते खारिज हो चुके हैं।


जालोर में 84 आवेदन आए, जिनमें से 11 लोगों को नागरिकता दी गई। पाक विस्थापितों के लिए काम रही निमित्तेकम संस्था के अध्यक्ष जय आहूजा का कहना है कि पहले नागरिकता देने की प्रक्रिया काफी जटिल थी। लोगों को काफी परेशानी होती थी। लेकिन संशोधन के बाद औपचारिकताएं पूरी करने के बाद लोगों को जल्द नागरिकता मिलने लगेगी।