17वीं लोकसभा चुनाव की घोषणा हो चुकी है। 11 अप्रैल से 7 चरणों में वोटिंग शुरू होकर 19 मई तक जारी रहेगी। चुनाव के नतीजे 23 मई को घोषित किए जाएंगे। चुनावी सरगर्मियों के बीच आज हम आपको बताएंगे कि इस बार भाजपा-कांग्रेस की क्या स्थिति है। किसने क्या खोया है और क्या पाया है। बता दें कि 16वीं लोकसभा यानि 2014 के चुनाव ने कांग्रेस का गणित बदल कर रख दिया था। भारतीय जनता पार्टी ने नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में ऐतिहासिक जीत दर्ज करते हुए केंद्र में सरकार बनाई। इसके साथ ही पूरे देश में कांग्रेस का बुरा वक्त जैसे शुरू हो गया। धीरे-धीरे कई राज्यों में भगवा रंग चढ़ता चला गया।


केंद्र में आने से पहले बीजेपी की सरकार महज 7 राज्यों में थी, जबकि उस वक्त देश की सत्ता पर काबिज कांग्रेस 13 राज्यों में शासन कर रही थी। लेकिन चुनाव-दर चुनाव कांग्रेस को करारी हार मिलती चली गई। वहीं बीजेपी ने जिस मिट्टी को भी छुआ वह सोना बन गई। इसका नतीजा ये हुआ कि बीजेपी एक वक्त में अपने सहयोगियों के साथ मिलकर 20 राज्यों में एक साथ सरकार चलाने के रिकॉर्ड तक पहुंच गई। लेकिन अब जबकि 2019 का लोकसभा सामने है, तो हालात थोड़े जुदा हैं।


2014 में सत्ता मिलने के वक्त बीजेपी के पास महज 7 राज्य थे। इनमें से 2 राज्यों में उसकी गठबंधन सरकार थी। राजस्थान, गुजरात, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और गोवा में बीजेपी की अपने दम पर सरकार चल रही थी, जबकि पंजाब और आंध्र प्रदेश में वह गठबंधन की सरकार चला रही थी। दूसरी तरफ कांग्रेस 13 राज्यों में शासन में थी। हिमाचल, उत्तराखंड, हरियाणा, कर्नाटक, अरुणाचल प्रदेश, असम, मेघालय, मणिपुर, मिजोरम, झारखंड, महाराष्ट्र, जम्मू कश्मीर और केरल में पार्टी अपने दम पर या गठबंधन में सरकार चला रही थी।


2014 में नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद हरियाणा, महाराष्ट्र, झारखंड, आंध्र प्रदेश और जम्मू कश्मीर में बीजेपी ने अपने दम या सहयोगियों के साथ मिलकर सरकार बनाई. सिक्किम में उसने अपनी मदद से सरकार बनवाई। 2016 में बीजेपी ने असम में इतिहास रचा और कांग्रेस के 15 साल के शासन को खत्म कर दिया। इसके बाद 2017 में 7 राज्यों के विधानसभा चुनाव हुए तो बीजेपी ने यूपी, उत्तराखंड, गोवा, मणिपुर, हिमाचल प्रदेश और गुजरात में सरकार बनाई, जबकि कांग्रेस ने पंजाब में अपना खाता खोला।


2018 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी को छत्तीसगढ़, राजस्थान और मध्य प्रदेश के रूप में अपने बड़े राज्य गंवाने पड़े और यहां कांग्रेस ने जीत दर्ज की। कर्नाटक में कांग्रेस और जेडीएस ने सरकार बनाई। जबकि त्रिपुरा जैसे लेफ्ट के गढ़ में भी बीजेपी अपना कमल खिलाने में कामयाब रही। नॉर्थ ईस्ट के राज्यों में भी बीजेपी ने अपने सहयोग से कई सरकारें बनवाईं। यानी 2017 तक बीजेपी का वियजी रथ बिना किसी अवरोध के चलता रहा, लेकिन 2018 की शुरुआत में जब कर्नाटक में चुनाव हुए तो कांग्रेस ने जेडीएस के साथ मिलकर सरकार बनाई और अपना ग्राफ सुधारने का काम किया।


इसके बाद हालात बदलते चले गए और 2018 के अंत में राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में कांग्रेस ने बीजेपी की सत्ता उखाड़ फेंकी। इन तीनों राज्यों में मिली जीत ने कांग्रेस को बड़ी ताकत दी। इसी साल की शुरुआत में उसने जम्मू-कश्मीर में पीडीपी से अपना समर्थन वापस ले लिया, इस तरह वहां उसकी सरकार चली गई। अब मौजूदा हालात ये हैं कि पीएम नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस के 'तीन-P' यानी पंजाब, पुडुचेरी और परिवार कांग्रेस को लेकर जो टिप्पणी की थी, कांग्रेस उससे आगे बढ़ गई है। यानी कांग्रेस अब पंजाब और पुडुचेरी के बाद कर्नाटक, छत्तीसगढ़, राजस्थान और मध्य प्रदेश में भी सरकार बनाने में कामयाब हो गई है। यानी कांग्रेस अब पांच राज्यों और संघ शासित राज्य में सरकार चला रही है। 


जबकि बीजेपी का ग्राफ नीचे आया है। फिलहाल, बीजेपी की सरकार 17 राज्यों में है, जिनमें से कुछ राज्यों में उसकी गठबंधन की भी सरकार चल रही हैं। मौजूदा हालात में बीजेपी अपने दम पर या सहयोगियों के साथ मिलकर अरुणाचल प्रदेश, असम, बिहार, गोवा, गुजरात, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, झारखंड, महाराष्ट्र, मणिपुर, मेघालय, मिजोरम, नगालैंड, सिक्किम, त्रिपुरा, यूपी और उत्तराखंड में शासन में है।


हालांकि ये तस्वीर अभी लोकसभा चुनाव के नतीजे आने तक और बदल सकती है, क्योंकि आंध्र प्रदेश, अरुणाचल प्रदेश, सिक्किम और ओडिशा में लोकसभा चुनाव के साथ ही विधानसभा चुनाव भी होने हैं। बहरहाल जो मौजूदा स्थिति है उसमें अब केंद्र सरकार पर ही बीजेपी की नैया पार लगाने की जिम्मेदारी नहीं है, बल्कि बीजेपी शासित राज्य सरकारों के सामने भी अपनी पार्टी को एक बार फिर केंद्र की सत्ता में लाने का बड़ा टारगेट है। साथ ही हिंदी पट्टी के तीन राज्यों की सत्ता मिलने के बाद कांग्रेस सरकारों पर भी लोकसभा चुनाव में पार्टी की बुरी स्थिति से उभरने की चुनौती है।