कोरोना वायरस के बाद देश ब्लैक फंगस ने प्रकोप से जूझ रहा है। देशभर में ब्लैक फंगस के कई मरीज अपनी जान दे चुके हैं। देश के कई राज्यों में इसे महामारी भी घोषित कर दिया गया है।

 ब्लैग फंगस से लड़ने के लिए हमारे स्वास्थ्यकर्मी लगातार लगे हुए हैं। अब इस लड़ाई को और मजबूत बनाने के लिए अमेरिका से Amphotericin B की 2 लाख डोज भारत आई हैं। इसे ब्लैक फंगस के इलाज में इस्तेमाल किया जाता है।

ब्लैक फंगस के इलाज में इस्तेमाल होने वाली एंबिसोम (एम्फोटेरिसिन बी इंजेक्शन) की एक खेप रविवार सुबह भारत पहुंच गई। अमेरिका में भारत के राजदूत तरनजीत सिंह संधू ने ट्वीट कर बताया, "ब्लैक फंगस के इलाज होने वाली  AmBisome की एक और खेप  @GileadSciences से भारत पहुंच गई है। अब तक कुल 2 लाख खुराक पहुंच गई हैं। और आगे आने वाली हैं!" 

म्यूकोर्मिकोसिस, जिसे आमतौर पर ब्लैग फंगस के रूप में जाना जाता है, इसने पूरे भारत में अपना कहर बरपाया है, विशेष रूप से COVID-19 मरीजों में इसका असर ज्यादा देखने को मिला है जिन्हें संक्रमण के इलाज के लिए स्टेरॉयड की भारी खुराक दी गई थी।

महामारी अधिनियम 1897 के तहत मध्य प्रदेश, राजस्थान, उत्तराखंड, तमिलनाडु और बिहार सहित कई राज्यों ने ब्लैक फंगस को महामारी घोषित किया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी संबंधित अधिकारियों को दुनिया में कहीं से भी  युद्धस्तर पर दवा की व्यवस्था करने का निर्देश दिया है।

सूत्रों ने कहा, "पीएम ने अधिकारियों को निर्देश दिया था कि यह दवा दुनिया में कहीं से भी उपलब्ध हो। दुनिया भर में भारतीय मिशन इस दवा की सप्लाई हासिल करने में शामिल हैं। इसे यूएसए में गिलियड साइंसेज की मदद से हासिल किया गया है।"