हिमाचल प्रदेश में मानसून के दौरान भारी बारिश और भूस्खलन से जहां अभी तक 192 लोगों की मौत हो गई है और वहीं अब तक 980 करोड़ रुपये की सरकारी और निजी संपत्ति नष्ट हो चुकी है। एक आधिकारिक प्रवक्ता ने शनिवार को यह जानकारी दी। 

ये भी पढ़ेंः Inflation : महंगाई से आम आदमी को राहत, गिरकर 6.71 फीसदी पर आई


प्रवक्ता ने बताया कि पिछले एक सप्ताह के दौरान भारी बारिश और भूस्खलन से सबसे ज्यादा नुकसान हुआ है। इस दौरान लोक निर्माण विभाग को सबसे ज्यादा 569 करोड़ और जल शक्ति विभाग को 390 करोड़ रुपये तक का नुकसान हो चुका है। 

ये भी पढ़ेंः कश्मीरी पंडितों की हत्या के लिए कुख्यात बिट्टा कटारे की पत्नी को मोदी सरकार ने दी ऐसी बड़ी 'सजा'


उन्होंने कहा कि अकेले शिमला जिले में भारी बारिश और भूस्खलन से अभी तक 32 लोगों की मौत हो गयी है, जो सबसे अधिक हैं। इसके बाद कुल्लू में 25, मंडी में 24, चंबा में 19, कांगड़ा में 18, सिरमौर में 17, ऊना में 16 और सोलन में अभी तक 11 लोगों की मृत्यु हुई। इसके अलावा 342 लोग घायल हुए और छह लोग अभी भी लापता हैं। भारी बारिश के कारण भूस्खलन होने से 91 घर पूर्ण रूप से क्षतिग्रस्त हो गए, जिससे कई लोग बेघर हो गए और 311 घर आंशिक रूप से क्षतिग्रस्त हो गए।