नागालैंड विधानसभा चुनाव में 18 पूर्व विधायक इस बार चुनाव हार गये हैं, जिनमें नेशनल डेमाक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी (एनडीपीपी) के तीन, नेशनल पीपुल्स पार्टी (एनपीपी) के दो, नागा पीपुल्स फ्रंट (एनपीएफ) के नौ, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के तीन और कांग्रेस के एक उम्मीदवार शामिल हैं।

नागालैंड विधानसभा चुनाव में हारने वाले विधायकों में पूर्व मंत्री और दीमापुर-3 से एनडीपीपी के उम्मीदवार तोखेहो को 11,024 मत मिले और यह अज्हेतो जिमोमी से 2138 मतों के अंतर से हार गये। पूर्व संसदीय सचिव और तसेमिन्यू से एनपीपी के उम्मीदवार लेवी रेंगमा एनडीपीपी के उम्मीदवार आर. खिंग  833 मतों के अंतर से हार गये। दक्षिण अंगामी से एनपीएफ के उम्मीदवार विस्तु एनडीपीपी के उम्मीदवार जेले नईखा से 771 मतों से पराजित हो गये। एनपीसीसी के अध्यध और 16 फुत्सेरो से उम्मीदवार केवेखापे थेरई महज 3785 मतों के साथ तीसरे स्थान पर रहे। एनपीपी टिकट पर 17 चिजामी से चुनाव लडऩे वाले डियो नखु भी एक नये उम्मीदवार से पराजित हो गये।

चुनाव हारने वाले अन्य प्रमुख उम्मीदवारों में एनपीएफ के नुक्लुतोशी, एस. चुबा लांगकुमेर, सी. अपोक जामिर, डॉ. बेंजांगलिबा अय्यर, के. खेकहो अस्सुमी, हुकावी झिमोमी, नइबा कोनयाक, आर. तोहांबा, सी. किपिली सांगतम और भाजपा की टिकट पर लडऩे वाले पूर्व मुख्यमंत्री केएल चिशी, टी. एम. लोथा और ए. इम्तिलेम्बा सांगतम शामिल हैं। गौरतलब है कि नागालैंड समेत पूर्वोत्तर के तीन राज्यों के विधानसभा चुनाव के नतीजे कल रात घोषित किये गये थे।