दक्षिण मिजोरम के लॉगतलाइ जिले के प्रशासन ने जिले के दूरदराज के चार गांवों में शरण लेने वाले म्यांमार के करीब 1,600 नागरिकों के पंजीकरण की प्रक्रिया शुरू कर दी है। एक अधिकारी ने आज यह जानकारी दी है।

अधिकारी ने बताया कि शरणार्थियों के पंजीकरण के बाद भोजन वितरण के लिए उन्हें अस्थाई राशन कार्ड दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि शरणार्थियों के बीच वितरण के लिए उन चार गांवों में 300 क्विंटल से अधिक चावल लाया जा चुका है। ये गांव मिजोरम-म्यांमार सीमा पर स्थित हैं। शरणार्थियों के लिए गांवों में अस्थाई राहत शिविर बनाए जा रहे हैं।

अधिकारी ने बताया कि इन चार गांवों में शरण लेकर रह रहे लोग म्यांमार के खुमी और रखाइन प्रांत के रहने वाले हैं। मिजोरम में उन्हें ‘जखाई’ के नाम से जाना जाता है। शुक्रवार के दिन विस्थापित लोगों को ‘सेंटर कमेटी ऑफ दी यंग लाई एसोसिएशन’ ने कंबल और कपड़े वितरित किए थे।