बांग्लादेश की चटगांव कोर्ट (Chittagong Court) की एक अदालत ने दुर्गा पूजा मंडप में तोडफ़ोड़ (Durga Puja Mandap vandalized) और पुलिसकर्मियों पर हमला करने के मामले में 16 आरोपियों को एक दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया है। गिरफ्तार किए गए लोगों में हबीबुल्लाह मिजान (Habibullah Mizan) ने अदालत के समक्ष अपना इकबालिया बयान दिया है। इस घटना को लेकर पुलिस अब तक 100 लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है।

चट्टोग्राम मेट्रोपॉलिटन पुलिस के अतिरिक्त उपायुक्त, अभियोजन, मोहम्मद कमरुल हसन (Mohammad Kamrul Hasan) ने बताया कि मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट हुसैन मोहम्मद रजा ने पुलिस की याचिका पर सुनवाई के बाद रिमांड के लिए आदेश पारित किया, जिसमें आरोपी से पूछताछ के लिए सात दिन की रिमांड की मांग की गई थी। 15 अक्टूबर को शुक्रवार की दोपहर की नमाज के बाद, अंडरकिला जामे मस्जिद से सैकड़ों आक्रामक लोग निकले और जेएम सेन हॉल पूजा मंडप में अंदर घुसने की कोशिश की। गुस्साई भीड़ ने मौके पर पथराव किया और पोस्टर व बैनर फाड़ दिए।

इस स्थिति को नियंत्रित करने के लिए, पुलिस ने गोलियां चलाईं और भीड़ पर लाठीचार्ज किया और भीड़ ने पुलिस पर भी हमला किया। कोतवाली थाना के सब इंस्पेक्टर आकाश महमूद फरीद ने घटना के अगले दिन मामला दर्ज कर 83 लोगों को आरोपी बनाया है। मामले में अन्य 500 अज्ञात लोगों को भी संदिग्ध के रूप में नामित किया गया है।