काबुल में एयरपोर्ट पर धमाका करने वाले आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट ऑफ खुरासन प्रोविंस में केरल 14 लोग शामिल हैं।  कहा जा रहा है कि इन लोगों को तालिबान ने बगराम जेल से रिहा किया था।  इसके अलावा तुर्कमेनिस्तान के दूतावास पर हमले की कोशिश कर रहे दो पाकिस्तानियों के भी हिरासत में होने की खबर है।  काबुल एयरपोर्ट पर हुए धमाके में 13 अमेरिकी सैनिकों समेत 200 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई थी। 

केरल के 14 रहवासी अफगानिस्तान में ISKP का हिस्सा बने हैं।  यह समझा जा रहा है कि इन 14 केरलवासियों में से 13 ने अपने घर से संपर्क साधा था।  जबकि, 13 अभी भी फरार हैं।  2014 में मोसुल में कथित इस्लामिक स्टेट का कब्जा होने के बाद मलप्पुरम, कासरगोड़ और कन्नूर जिलों से एक समूह जिहादियों में शामिल होने के लिए भारत छोड़कर भागा था।  इनमें से कुछ परिवार ISKP के तहत अफगानिस्तान के नंगरहार प्रांत में रहने लगे थे। 

रिपोर्ट के मुताबिक, भारत इस बात को लेकर चिंतित है कि तालिबान और उसके साथी इन कट्टरपंथी केरलवासियों का इस्तेमाल कर भारत की छवि को नुकसान पहुंचाएंगे।  साथ ही ये खबरें भी आ रही हैं कि तुर्कमेनिस्तान दूतावास के बाहर धमाका करने की कोशिश कर रहे दो पाकिस्तानियों को हिरासत में लिया गया है।  हालांकि, तालिबान ने अभी तक इस मामले पर चुप्पी नहीं तोड़ी है, लेकिन खुफिया रिपोर्ट्स दिखाती हैं कि 26 अगस्त को काबुल एयरपोर्ट पर धमाका होने के बाद ही इन पाकिस्तानी नागरिकों से IED बरामद हुआ था।