इजराइल में फाइजर कंपनी की कोराना निरोधक वैक्सीन लगाए जाने के बाद कम से कम 13 लोगों को चेहरे पर लकवे की हल्की शिकायत देखने को मिली है। स्वास्थ्य मंत्रालय के अधिकारियों ने यह जानकारी दी है। चिकित्सकों का अनुमान है कि इस तरह के केसों में बढ़ोतरी हो सकती है और उन्होंने इस तरह के दुष्प्रभावों को देखते हुए इस वैक्सीन के दूसरे डोज को लगाए जाने पर संदेह व्यक्त किया है।

रिपोर्टों के मुताबिक स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि अगर इन लोगों की हालत में सुधार होता है तो उसके बाद ही इन्हें कोरोना वैक्सीन की दूसरी डोज दी जाएगी। इस्राइल सरकार ने पिछले वर्ष नवंबर माह में फाइजर और बायोएनटेक के साथ 80 लाख कोरोना वैक्सीन डोज के लिए एक करार किया था और जब से देश में कोरोना टीकाकरण हुआ है तभी से अब तक 20 लाख से अधिक लोगों को कोरोना के टीके लग चुके हैं। 

कोरोना वैक्सीन लेने के बाद दो वृद्ध लोगों की मौत भी हो गई है। मीडिया रिपोर्टों में बताया गया है कि कोरोना वैक्सीन लेने के बाद 96 लोगों को गंभीर जटिलताओं का सामना करना पड़ा है और 24 लोगों में स्थाई विकलांगता आ गई है। इसके अलावा 225 लोगों को अस्पतालों में भर्ती कराना पड़ा है और 1388 लोगों को आपातकालीन स्वास्थ्य सेवाओं की जरूरत पड़ी है।