उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनावों से पहले बीजेपी विधायकों का पार्टी छोड़ने का सिलसिला जारी है। अब इस मुद्दे पर राष्ट्रवादी कांग्रेस (एनसीपी ) के प्रमुख शरद पवार (sharad Pawar) ने भाजपा पर तंज सका है। उन्होंने कहा कि एक भी दिन ऐसा नहीं गुजरता जब बीजेपी का कोई नेता पार्टी नहीं छोड़ता। उदाहरण के तौर पर उत्तरप्रदेश को ही लीजिए, 13 विधायक दूसरी पार्टी में शामिल होने के लिए बीजेपी छोड़ रहे हैं। मुझे पता चला है कि भाजपा के चार विधायक आज ही पार्टी छोड़ रहे हैं। 

एनसीपी ने सपा-टीएमसी के साथ किया गठबंधन

वहीं, एनसीपी नेता और महाराष्ट्र के मंत्री नवाब मलिक (Nawab Malik) ने कहा कि हमने उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी के साथ चुनाव लडऩे का फैसला किया है। एक सीट का एलान हो चुका है और दूसरी सीटों के लिए बातचीत जारी है। हम यूपी में बनने वाले गठबंधन का समर्थन करेंगे। बता दें कि उत्तर प्रदेश में राष्ट्रवादी कांग्रेस ने समाजवादी पार्टी (SP) और तृणमूल कांग्रेस (TMC) के साथ गठबंधन किया है। एनसीपी नेता केके शर्मा को बुलंदशहर की अनूपशहर सीट (UP assembly elections) से उतारने का फैसला लिया गया है। वहीं, कांग्रेस छोडकऱ हाल ही में टीएमसी में शामिल हुए ललितेश पति त्रिपाठी मिजार्पुर से सपा गठबंधन के संयुक्त प्रत्याशी बनकर चुनाव लड़ेंगे।

कांग्रेस-शिवसेना के खिलाफ लड़ेगी एनसीपी

खास बात यह है कि एनसीपी उत्तर प्रदेश में कांग्रेस और शिवसेना के खिलाफ ही लड़ेगी, जबकि महाराष्ट्र में इन दोनों पार्टियों के साथ मिलकर ही सरकार चला रही है। शरद पवार (sharad Pawar) ने एक दिन पहले ही सपा के साथ गठबंधन को लेकर बातचीत की जानकारी देते हए कहा था कि वह अखिलेश (akhilesh yadav) के लिए प्रचार भी करेंगे। वहीं शिवसेना सांसद संजय राउत ने गुरुवार को साफ कर दिया कि वह वैचारिक मतभेद के चलते समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन नहीं कर सकते। दूसरी ओर उत्तरप्रदेश में अकेले चुनावी मैदान में उतरी कांग्रेस ने गुरुवार को अपने उम्मीदवारों की पहली सूची जारी कर दी। कांग्रेस की पहली सूची में 125 उम्मीदवारों का ऐलान किया गया है। इसमें 50 महिलाए शामिल हैं।